रजनी की गज़लें - अपनी माटी

हिंदी की प्रसिद्द साहित्यिक ई-पत्रिका ('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

रजनी की गज़लें


सच्चा क्या है झूठा क्या है किसे पता
सोचे क्या और होता क्या है किसे पता
फ़रियादे मेरे दिल की सुनता क्यों नहीं
या रब तेरी चाहत  क्या है किसे पता
उजले  मुखड़े भोली सूरत लिबास मुह्ज्ज्ब
ए रकीब ! तेरे मनन  में  क्या है किसे पता
हिज्र में  तेरे पल -पल आंसू  पीती हु
मेरे सिवा अहसास ये क्या है , किसे पता
आओ जी ले रजनी   जिन्दगी हम जी भर  के
मौत के  बाद  होता क्या है किसे पता

(२)
जज्बातों को लफ्जो की जरुरत क्या है
हम तेरे है कहने की जरुरत क्या है
ए खुदा ! रहता है तू मेरे दिल मै
कोइ चाहे तो करे प्यार या नाकरे
फितरत हमें बदलने की जरुरत क्या है
सोचा है हमेशा बस अपने बारे मे
चलो रजनी सोचे के दुसरे की जरुरत क्या है

(ताजा-ताजा )
ताजा-ताजा इश्क हुआ है हमको भी
दिल मे थोडा दर्द जगा है हमको भी
तुम ही नहीं बर्बाद हुए हो ,ए वाएज
मर्ज ये कम्बखत  हुआ है हमको भी
चाहे हँसी है चाँद  सी सूरत तेरी
कहीं किसी ने खुशशक्ल कहा है हमको
केसे बताये  किर्ती, कौन  है वो
किसी ने अपना वास्ता दिया है हमको भी
तेरी हंसी  से झूठा  ही सही  लगा तो
चलिए कोई तो चाहता है हमको भी


                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                          
Rajni Kanwar Dayma (RAINY)
Casual Announcer,AIR
Chittorgarh(Rajasthan)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here