Latest Article :

सांवत्सरिक क्षमापना

Written By ''अपनी माटी'' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल on बुधवार, फ़रवरी 17, 2010 | बुधवार, फ़रवरी 17, 2010


साल में हमसे कोई, हुइ्र कभी हो भूल
वंदन कर माँगे ‘क्षमा’ पर्युषण का है मूल।
तप-आराधना नित करे, श्रद्वा सारू आप
समता उर में जगे, मेट दिलो के पाप।
रिवाज धर्म का जब चले, खुले ‘मोक्ष’ के द्वार
कषाय कर्म को छोड़ दे, सुखी रहे संसार।
‘‘क्षमा वीरस्य भूषणं’’ अहं कायर अज्ञान
मायत सेवा जो करे जीतले सकल जहां।
परखो अपने दोष को चाहो अगर उद्वार
नाते-रिश्ते झूठे हैं अनुभव का यही सार।
क्षमायाचना
अहं भूल खुश रहो, कर थोड़ा उपकार।
दुःख से बचने का यही, एक मात्र उपचार।।
गुस्सा, नफरत छोड़ दे, करे ना तिरस्कार।
तन-मन-नित स्वस्थ रहे, सुख का यही आधार।।
आपसी रंजिश भूल, रिश्ते नया रचा।।
‘मिच्छामि दुक्कडं’ कहो, जीवन दो सजा।।
माफ करना सीखिए, भूल गुण इंसान।
धन-दौलत ये कुछ नही, जब हो क्षमा।।
अक्षम्य कोई जुर्म नही, विवेक की है बात।
त्याग-समन्वय संग चले तो, मिट जाये आघात।।
संवत्सरी पर्व पर, माँगे क्षम का दान।
‘‘क्षमावीरस्य भूषणं’’ मान ले तू नादां।।
दिल दुःखाया हो यदि दी कोई यातना।
भूल करे ना फिर कभी, करे क्षमा याचना।।

दिलीप गांधी,चित्तौडगढ 
Share this article :

1 टिप्पणी:

  1. माणिक जी, आपके सभी ब्लॉग का बहुत अच्छे से चक्कर काट कर आ रहा हूँ. कुछ को आपने बहुत अच्छे से सजाया है तो कुछ पर बहुत अच्छा लिखा है. कहने का भाव यह है की मै खुद नहीं समझ पा रहा हूँ की किस चीज की तारीफ करूँ और किस को छोड़ दूँ. वैसे मैंने आपके ब्लॉग को फालो कर लिया है. जब दिल चाहेगा चक्कर लगा लिया करूँगा. आप भी कभी गुफ्तगू में शामिल हो.
    www.gooftgu.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template