क्या जिगर है । - अपनी माटी

हिंदी की प्रसिद्द साहित्यिक ई-पत्रिका ('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

क्या जिगर है ।


जिगर में
हजारों कांटे हैं
हजारों
कांटों में जिगर है

सारे कांटे
यही कहते हैं
वाह !
तेरा भी
क्या जिगर है ।

http://kavyakalash.blogspot.com/
http://kavyakalash.blogspot.com/

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मुलाक़ात विद माणिक


ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here