महेंद्र के छायाचित्र-10 - अपनी माटी ई-पत्रिका

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

महेंद्र के छायाचित्र-10

Share
पाठक साथियों नमस्कार 
जीवन में बहुत सारी भागादौड़ी है मगर एक बात साफ़ है कि हमारा भी दिल करता है  कुछ समय  निकाल कर हम फुरसत  में कहीं घूमने जाएँ. यहाँ अपनी माटी अपनी अमूल्य प्रकृति के कुछ छायाचित्र पोस्ट कर रहा है ये  एक सिलसिला........... छायाकार  हैं: महेंद्र -9829046603..उन्हें अपनी राय जरुर दीजिएगा.,ताकी  सफ़र जारी रहे.
कोहिमा यात्रा जारी है..अगर आप साथ हैं तो फिर फिक्र किस बात की.
गुहावटी दर्शन
ब्रमपुत्र नदी का पानी लोहे की सलाखों से कैसा दीखता है.
ट्रेन कुछ ज्यादा लम्बी नहीं है.वैसे अछे जगह की यात्रा में वक्त लगता है.


यहाँ भी आदमी रहते है.कहीं पानी की किल्लत है और कहीं पानी से लोग परेशान है. अजीब माया है ईश्वर की.

1 टिप्पणी:

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here