Latest Article :
Home » , , , , , , , , , , , , , » ''काव्योत्सव'' में आज नवीन जोशी ’नवेंदु’ जी

''काव्योत्सव'' में आज नवीन जोशी ’नवेंदु’ जी

Written By ''अपनी माटी'' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल on शुक्रवार, जून 04, 2010 | शुक्रवार, जून 04, 2010

Share अपनी माटी ब्लॉग और आप सभी की तरफ से सुनहरे भविष्य की कामना के साथ ''काव्योत्सव'' में आज की रचना और  रचनाकार प्रस्तुत हैं.स्वागत करिएगा.आपके अनमोल सुझाव ,विचार भी बताइएगा
---------------------------------
नवीन जोशी नवेंदु’ जी  

जन्म: 26 नवंबर 1972
जन्म स्थान ग्राम तोली (कपकोट),
 जिला बागेश्वर, उत्तराखण्ड
कुछ प्रमुख
कृतियाँ : प्रकाशनाधीन: उघड़ी आँखोंक स्वींड़, च्याड़ कुमाउनी कविता संग्रह.
विविध फोटोग्राफी का शौक।
इनकी तस्वीरों को अंतरराष्ट्रीय पुरुस्कार मिल चुके हैं।
 पेनोरामियो वेबसाइट
पर अनेक तस्वीरें।
हिंदी समाचार पत्र राष्ट्रीय सहाराके नैनीताल में ब्यूरो प्रभारी
Mobile-9412037779
------------------------------------------

"तिनके"
 तिनकों को क्या चाहिए ?
कुछ खास धरती नहीं
कुछ खास आसमान नहीं
कुछ खास धूप नहीं
कुछ खास हवा-
 कुछ खास पानी नहीं
कुछ मिले-ना मिले
वे रहते हैं जीवित।
 क्यों ? कैसे ?
आदत पड़ गई है जीने की।
वरना-
उनके कोई सपने नहीं-कोई बातें नहीं
कोई सुख-कोई दुख-कोई तकलीफ नहीं
हैं भी तो छोटे-छोटे
 छोटी खुशियां-
एक बून्द पानी की मिल गई
तो वे खुश।
 एक पल को भी धूप मिल गई
कूड़ा-कीचड़ ही सही
थोड़ी जगह मिल गई
तो वे खुश।
बस, तेज पानी
 तेज धूप
तेज हवा की डर हुई।
और यह गुजर गऐ तो
जान बच गई जो
उण-भटक-बह कर
कहीं पहुंच जाऐं
कुछ मर-खप भी जाएँ
वे फिर भी खुश।
 क्यों ? कैसे ?
रोने का समय ही नहीं हुआ उनके पास
फिर आंसू आऐंगे भी तो पोछेगा कौन ?
वे कोई नांक-मुंह तक भर कर खाने वाले
मोटे-तगड़े पेड़ जो क्या हुऐ
जिन्हें चाहिऐ सभी कुछ अधिक-अधिक ही
 और तब भी रहते हैं
हर समय
रोते ही।
 
Share this article :

8 टिप्‍पणियां:

  1. तिनका का विम्ब ले आम आदमी आम जिंदगी की कहानी कहती है यह कविता... सुंदर रचना... जोशी जी को बधाई...
    अब काव्योत्सव के आयोजक के लिए :
    लगता है काव्योत्सव को सही प्रकार से प्रचारित नहीं किया गया है... अन्यथा अधिक पाठक और टिप्पणी आते...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया..नवीन जी का स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. तिनके के द्वारा इंसान के हालात को बखुबी उकेरा है…………प्रशंसनीय रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. We very tahnkful to you for this kind interest in''Kavyotsav''

    उत्तर देंहटाएं

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template