कविता :फुरसत के पल मेड़ पर - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

कविता :फुरसत के पल मेड़ पर

शेयर 

काम सभी  निबट के बैठा है किसान खेत की मेड़
बादल देखे कभी वो साहस नापे अपना 
याद उसे है आज भी बीता साल वो खाली-खाली 
मंडराया  महाजनी ब्याज दाने-दाने बारह माह
आस लगाई है अबकी भी लाज बच निकलेगी शायद
बिगाड़ता रहा है ये ''शायद'' ही अब तक मेरे सारे काम
बारिस भी अब तो शायद पर जा रूकी है 
जाने वो क्या इस तरसती मेड़ का दुःख 
जो खाते और लेते है गेहूं पैसे देकर 
यहाँ जान खपती है,पसीना गढ़ जाता है 
तब कुछ ज़मीन के उपर आता है
मेहनत की हद देखी है उसने 
जो बैठा है आज फिर से मेड़ पर
साथ है उसके बाल-बच्चों की मां बस
 दिलासा देते चातक थे कुछ
कुछ याचक थे साल पुराने ब्याज वाले
फंसा हुआ था इसी बीच वो 
चिंता की डोर थामे 
यही नियती बनी रही तब भी
और अब भी ..............


द्वारा माणिक

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here