Latest Article :
Home » , , , , » माणिक की लम्बी कविता

माणिक की लम्बी कविता

Written By ''अपनी माटी'' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल on सोमवार, जून 28, 2010 | सोमवार, जून 28, 2010

''बदल गया है वक़्त कितना''
नैन बावरे,मन बावरा
धड़कन जिसको भजती है
रही तलाश में अबतक
सालों से नज़र जिसके
आता नहीं नज़र आजकल वो
और तो और अजनबी लगने लगी इन दिनों 
कुछ जानी-पहचानी आँखों भी
बदल गया है वक़्त कितना
जल्दबाजी में धड़ाधड़  सबकुछ(1)

गणित कुछ तो मैंने भी बिगाड़ी है अपनी
रिसती हुई  रेत सा 
छूट गया है बहुत कुछ
राह चलते-चलते
अब तक बीते सालों में
हाथ फेरता रहा बस अँधेरे में अब तक
अच्छे को छोड़ दिया 
आँख मूंद चल दिया
बात पुरानी,बीती घड़ियाँ 
फरक नहीं अब अरण्य  रोदन से
कौन सुनेगा पीड़ा अपनी
एक थी रोशनी आँखों की
वक़्त का मोतियाबिंद गैरे बैठा है जिसे
जो ढूँढती और परखती थी
अपनापन और असली आदमी चुटकियों में(2)

मुंह मौड़ती  दिखी मंझिलें अब 
लगे राहगीर बदले-बदले
आस बढ़ा दी है ज़माने से  मेंने ही 
या धुंधलाई आँखों से देखता हूँ आज़कल
सूना ही था प्यार में बेकरार होती है आँखें 
सुनी बात सुनी-सुनाई रह गई
बात ये बीते कल की हो गई
बचपन,बुजुर्ग और बिरादरी क्या अब
नक़्शे सभी के बिगड़े नज़र आते हैं
समाज बदल रहा है तेजी से
या नज़र कम पड़ गई है मेरी (3)

कुछ बूढी और कुछ ज़वान आँखें
देखती रही चुपचाप
और समाज बदलता रहा
बेधड़क और चौतरफा
पड़ौसी के बल्ब  में ज्य़ादा रोशनी
देखने लगा है अब आदमी की आँखें
कांख में दबाए नफे-नुकसान  का गणित
हर बात पर नज़र रखता है मगर
बेकाम की  बातें पसंद नहीं उसे
लाभ के पहाड़े बोलता है फर्राटे से
बस अटक जाता है
बेमतलबी बारहखड़ी में 
अक्ल के नाम पर समझदार हो गया है
 मायने बदल दिए है  उसने
आँखें चार होने के
भोलापन,सादापन और सयानी शक्ल
ढूँढते  रह जाओगे ज़माने में
ठहरा और छाया हुआ जो
अदाकारी का आलम हर तरफ (4)

 चाँद के बहाने पिया का इन्तजार
करती बिरहन आज कहाँ 
जो शाम से बैठती थी  देहरी पर
सिर टिकाए दरवाजे के पास
नज़र जमाए गोधूली में घरों को लौटते
ढ़ोर-ढंगर  के बीच
इन्तजार में निकला चाँद
लेट लतीफ़ लगता था देर तलक
रातभर निहारती  थी आँखें
जी भर भी ना पाता था कि
ले जम्भाई सूरज उग आता
ले नया सवेरा,नई नज़र
रातभर जागी जो प्यार में 
 अलसाई आँखें ले बिरहन देखती थी
अब  न  वैसा चाँद निकलता है,
न  बिरहन बैठती है  देहरी पर
सिर टिकाए देर तलक
फीकी है  गोधूली और
ढ़ोर-ढंगर भी बेमन के हो गए
अचानक लगा कि वक्त बदल रहा है
सोचा न  था कि इतना बदल जाएंगे ............(5)
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template