Latest Article :

अशोक जमानानी की ग़ज़ल: दरख़्त

Written By अपनी माटी,चित्तौड़गढ़ on मंगलवार, जून 08, 2010 | मंगलवार, जून 08, 2010

Share


सूखे पत्तों को जब आकर हवा उड़ाती है
शाख के पत्तों की भी रूह कांप जाती है

दरख़्त अपने ही पत्तों का हो नहीं पाता
चिड़िया पागल है वहां घोंसला बनाती है

धूप पेड़ों के सिर जमाती जब डेरा आकर
ये छांव पेड़ों तले तब बस्तियां बसाती है

दरख़्त जो भी खास थे वो बन गये खुदा
आम लकड़ियां तो चूल्हों को ही जलातीं हैं

दरख़्त मिट्टी से रिश्ता समझ नहीं पाता
साथ रहती है फिर ये साथ छोड़ जाती है
- अशोक जमनानी
Share this article :

5 टिप्‍पणियां:


  1. सूखे पत्तों को जब आकर हवा उड़ाती है
    शाख के पत्तों की भी रूह कांप जाती है.......वाह ! सब जग चल्लनहार …

    उत्तर देंहटाएं

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template