अरुण रॉय की कविता''चाँद तुम मुस्कुराना'' - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

अरुण रॉय की कविता''चाँद तुम मुस्कुराना''

चाँद
तुम मुस्कुराना
पृथ्वी के होने तक


अभी भी
लालटेन के नीचे
पढ़ रहे हैं
झूम झूम कर बच्चे
माँ
लकड़ी वाली अंगीठी में
पका रही है प्यार
दादाजी बांच रहे हैं
मानस खाली दालान में

चाँद
तुम मुस्कुराना
माँ, बच्चों और दादाजी के होने तक


अभी
उड़ेंगे जहाज के जहाज
और बरसा जायेंगे
बम और बारूद
चुपके से अँधेरे में
धरती के किसी कोने में
जब सो रही होगी चिड़िया
अपने बच्चों के साथ

चाँद
तुम मुस्कुराना
घोंसले में चिड़ियों के होने तक

मेरे पीछे
पड़े है कई हथियारबंद लोग
तरह तरह के लेकर हथियार
कुछ लुभावने
कुछ घातक हथियार लिए
बदल बदल कर रूप
ये पीछा कर रहे हैं मेरा
और मैं
पुरजोर गति से भाग रहा हूँ
चाँद
तुम मुस्कुराना
मेरी धमनियों में गति रहने तक

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here