Latest Article :
Home » , » देवदत्त पालीवाल की रचनाएँ

देवदत्त पालीवाल की रचनाएँ

Written By अपनी माटी,चित्तौड़गढ़ on सोमवार, जुलाई 26, 2010 | सोमवार, जुलाई 26, 2010

क्यों भगवन इन मैं ढूंढते हो 

हो रहा उपहास कैसा
आस्था का नग्न देखो ;
अवतार है हम स्वयं मैं
कह रहे हैं संत देखो (१)

ये है अगर अवतार निज मैं
करके नहीं क्यों कुछ दिखाते
खुद लिप्त हैं व्यभिचार मैं पर
मार्ग लोगो को दिखाते (२)

हो सच्चे अगर त्यागी तपश्वी
तो छोड़ दो इन आश्रमों को
जब ले लिया सन्यास तुमने
त्याग दो इन आडम्बरों को (३)

क्यों रूपधर तुम साधुओ का
करते आस्था का अपमान हो
जब फूट जाता पाप का घट
तब भागते क्यों दीखते हो (४)

धिक्कार है उन सब जनों को
जो कर रहे अँधा समर्थन
त्याग दो इन ढोंगियो को
जो कर रहे झूठा प्रदर्शन (५)

इसमें दोष है पूरा तुम्हारा
जो इन ढोंगियो को पूजते हो
है जिनका नहीं कोई ठिकाना
जो भगवान इनमे ढूढ़ते हो (६)

यदि चाह हैं भगवन की
बस स्वयं को बदल डालो
प्रभु तो स्वयं मिल जायगे
बस आचरणों को बदल डालो (७)

है वासना की भूख जिनको
वो मार्ग क्या दिखलायेगे
जो डूब रहे हों स्वयं मैं
वो पार क्या ले जायंगे (८}

चाह है यदि पूजने की तो
क्यों माँ-बाप को न पूजते हो
भगवान हैं घर मैं तुम्हारे
जो इन ढोंगियों को पूजते हो (९)

सब खेल है यह द्रष्टि का
बस भावनाओ की कमी है
हम बदल गए स्वयं मे
पर नहीं बदली जमी है (१०)

चिंता थी कुर्सी की केवल

कर सका न साहस आज तलक
वह अरब सिन्धु भी चला गया
ध्वनि जिसकी भीषण होती थी
वह पवन चल मैं छाला गया [१]

आभास ना था की अभी अचानक
सब कुछ बदला बदला होगा
निर्दोष निह्थे जन मानस पर
इतना भीषण हमला होगा [२]

पूर्व भास् था उनेह घटेगी
पर वे निद्रा मैं लीन रहें
चिंता थी कुर्सी की केवल
जोड़ तोड़ मैं लगे रहें [३]

क्यों डींग हांकते बड़ी बड़ी
तुमको जीने का अधिकार नहीं
क्यों व्यर्थ जताते हमदर्दी
सचजीने का तुमको अधिकार नहीं [४]

अगर न होते वीर सिपाही
तो रूप और भीषण होता
मौत हुई थी एक तिरासी
यह हजार को छू लेता [५]




है कायल उनका देश आज
गुणगान करें ना थकते हैं
कर मुक्त धरा को चलें गएँ
शीश मान मैं झुकते हैं [६]
paliwal_devdutta@yahoo.com
Share this article :

1 टिप्पणी:

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template