‘‘देश में शान्ति और खुशहाली के लिए सरकार आदिवासियों को न्याय दें’’-हिमांशु कुमार - Apni Maati Quarterly E-Magazine

नवीनतम रचना

‘‘देश में शान्ति और खुशहाली के लिए सरकार आदिवासियों को न्याय दें’’-हिमांशु कुमार


 ‘‘आदिवासी बचाओ-पर्यावरण बचाओ, लोकतन्त्र बचाओ-देश बचाओ’’ यात्रा 
 गांधीवादी विचारक हिमांशु कुमार ने ‘‘आदिवासी बचाओ-पर्यावरण बचाओ, लोकतन्त्र बचाओ-देश बचाओ’’ यात्रा के दौरान  चित्तौडगढ़  में प्रयास द्वारा आयोजित गोष्ठी में छत्तीसगढ़ के दांतेवाड़ा जिले में आदिवासियों की दयनीय स्थिति का चित्रण करते हुए कहा कि देष में शान्ति और खुशहाली कायम करने के लिए सरकार आदिवासियों को न्याय दें। सरकार आदिवासियों के हितों की रक्षा नही वरन् उनको प्रताड़ित कर रही है। खनीज सम्पदा हासिल करने के लिए आदिवासियों के घर जलाना, खाद्यान्न जलाना, उनके घरो पर हमले कर उन्हें बेदखल करना आम बात है। महिलाओं, बच्चों, बुजुर्गो और नौजवानों के साथ अत्याचार बढ रहा है। इससे लोगों में आक्रोश  फैल रहा है।

27 जून 2010 को, आपातकाल के ठीक दूसरे दिन से हिमांशु कुमार ने अपने दो साथियों (अभय कुमार वनवासी सेवा परिषद् और मिथिलेष कुमार) के साथ दिल्ली के राजघाट से भारत के लोगों को संदेश देने के लिए एक साइकिल यात्रा शुरू की है। यात्रा के दौरान उनका पहला राज्य हरियाणा था उसके बाद पंजाब होते हुए 17 जुलाई को उन्होंने सांगरिया, हनुमानगढ़ से राजस्थान में प्रवेश किया हैं। राजस्थान में वे एक महिना रहेंगे और 18 अगस्त, 2010 गुजरात के लिए प्रस्थान करेंगे।

हिमांशु  कुमार की यात्रा दिनांक 13 अगस्त 2010 को भीलवाड़ा से सायं 4 बजे चित्तौडगढ पहुंची। चित्तौडगढ़  में स्थानिय नागरिकों द्वारा यात्रियों का स्वागत किया गया तथा सायं 4.30 बजे प्रयास कार्यालय 8 विजय कॉलोनी, चित्तौडगढ में प्रेस वार्ता एवं एक विचार संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी के शुभारम्भ में प्रयास सचिव डॉ. नरेन्द्र गुप्ता ने सभी स्वागत करते हुए कहा कि सरकार किसानों से जमीन उनको विश्वास  में लेकर ले और उनकी उद्योगों में हिस्सेदारी सुनिश्चित  करें। जमीन का मालिकाना हक किसानों से नही छिने। आम जनता के हितो की रक्षा करें। संगोष्ठी में वरिष्ठ नागरिक मंच सदस्य जेपी भटनागर, सामाजिक कार्यकर्ता खेमराज चौधरी, बापूनाथ जोगी, जवाहर लाल मेघवाल, रितेश  लड्ढा  , मनीषा व्यास, छत्रपाल सिंह सहित कई सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। यात्रा दिनांक 14 अगस्त को जिले के विभिन्न गांवों से गुजरती हुई भदेसर पहुंची। भदेसर पंचायत समिति के भीलों  का खेड़ा गांव में ग्रामीणों के साथ सभा आयोजित की गई। हिमांशु कुमार से आदिवासी अत्याचार की दास्तान सुन लोग आश्चर्य  चकित हो गये। सामाजिक कार्यकर्ता खेमराज चौधरी ने कहा कि आजादी के 63 साल बाद भी आदिवासियों को इस प्रकार यातानाएं देकर सरकार उनके उपर जुल्म कर रही है जो गैर न्यायोचित है। 



हिमांशु  कुमार उनके कार्यो का संक्षिप्त में परिचय देते हुए कहा कि वहां पर आदिवासियों के न्याय के लिए किये जा रहे संघर्षों में अहिंसा के सिद्धान्तों को स्थापित करने के लिए वह दांतेवाड़ा वर्ष 1991 में गये थे। उनकी गुरू निर्माला देशपाण्डे (गांधीवादी व सर्वोदयी नेता) जी के कहने पे वहां गये थे। उन्होंने वहां पर विकास से संबंधी कार्य किये हैं, जैसे जंगल संबंधी अधिकार कानून की क्रियान्विति, नरेगा, भोजन का अधिकार, बच्चों से जुड़ी योजनाएं, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता आदि। जब राज्य सरकार के द्वारा आदिवासियों पर माओवादियों के नाम पर कई प्रकार के अत्याचार किये जा रहे थे तब हिमांशु  ने उनके साथ खड़े होकर उन अत्याचारों के खिलाफ आवाज़ उठाना शुरू किया। उन्होने राज्य मानवाधिकार आयोग, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग, बिलासपुर हाई कोर्ट, सुप्रीम कोर्ट में रिपोर्टस् फाइल करना शुरू किया तब वे सब उनको वहां से बाहर निकालने का प्रयास राज्य सरकार व पुलिस ने किया। सरकार ने वहां पर उनके खिलाफ बहुत बुरी हालात बना दिये हैं, उन्होंने  उनके आश्रम को ध्वस्त कर दिया, यहां तक कि दांतेवाड़ा में कोई उनको रहने के लिए मकान देने को तैयार नहीं है। जो महिलाएं पुलिस के द्वारा किये जा रहे अत्याचारों के खिलाफ मुनसिफ कोर्ट एवं सुप्रीम कार्ट में गई थीं उन महिलाओं का अपहरण पुलिस ने किया, उनके 2 कार्यकर्ताओं पर झूठे मामले बना कर जेल में डाल दिया। एक कार्यकर्ता को पुलिस ने गैर कानूनी रूप से हिरासत में ले कर पुलिस मुखबीर बनाने की कोशिश की तब बिलासपुर उच्च न्यायालय से उसे छुड़ाया गया। हिमाषु कुमार पिछले 18 वर्षो से छत्तीसगढ़  में आदिवासियों के साथ कार्य कर रहे हैं। उन्होंने अपने साथियों के साथ मिलकर 35 गांवों का सुव्यवस्थित ढंग से पुर्नवास किया।

जब जुल्म उनके कार्यकर्ताओं पर इस कदर बढऩे लगे तो उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य को छोड़ने और पूरे देश में यात्रा करने का तय किया और लोगों से बात करके आदिवासियों के हालात के बारे में बताने का तय किया जो कि कोई भी मीडिया रिपोर्ट नहीं कर रहा है। सरकार पत्रकारों को आदिवासी क्षेत्रों में प्रवेश तक नही करने देती। इससे आम व्यक्ति की व्यथा और हालात कोई जान नही पा रहा है लेकिन दांतेवाडा सहित आदिवासी क्षेत्रों की हालात बहुत खराब है। कई निर्दोष लोग काल ग्रसित हो रहे है।

हिमांशु  ने कहा कि जहां- जहां पर वे जा रहे हैं.युवा और बुजुर्ग उनके साथ साइकिल पर एक गांव से दूसरे या कुछ दूर तक यात्रा कर रहे हैं। पंजाब में बारिश और बाढ़ के हालात के कारण उन्होंने अपनी यात्रा साइकिल, बस या जीप से पूरा किया। प्रत्येक गावं, बस्ती, कस्बे, मोहल्ले में वे आम सभाओं का आयोजन कर रहे हैं और युवाओं के साथ व्यक्तिगत सम्पर्क कर रहे है, रेडियो वार्ताएं दे रहे हैं, मीडिया के साथ संवाद कर रहे हैं। 


प्रेस विज्ञप्ति-प्रयास संस्था ,चित्तौडगढ़ 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here