अशोक जमनानी की कविता-''रास्ता '' - अपनी माटी

नवीनतम रचना

अशोक जमनानी की कविता-''रास्ता ''


ज़िंदगी के सफर में
वक्त से तेज़ दौड़ते
वक्त से तेज़ भागते
छूट गए कई रास्ते
थककर हांफते लम्हें
कैसे देखते पड़ाव
रह गए वो भी बस
खुद को संभालते
गति से विरत नहीं
गति में रत नहीं
न बैठता चुपचाप
न तेज मैं भागता
शायद पाता मंज़िल
शायद ना भी पाता
लेकिन पा ही जाता
सारा सुख सहज ही
सारा सौंदर्य निहारता
सब दे ही देता मुझे
जो सदा से है मेरा
सदा साथ है निभाता
मेरा चिर संगी रास्ता

- अशोक जमनानी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here