कविता:-''औरत'' - अपनी माटी Apni Maati

India's Leading Hindi E-Magazine भारत की प्रसिद्द साहित्यिक ई-पत्रिका ('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

गुरुवार, अगस्त 19, 2010

कविता:-''औरत''


(आधी दुनिया के हालात पर मेरी कवितानुमा अभिव्यक्ति )
चित्र-साभार





















मांगती न बोलती 
जागती दिन-रात है
रोकती न चिड़ती
सादगी की जात है
नोचती न पूछती
पर सोचती हर बात है
सिंचती वो रोपती
जिन्दगी के बाग़ को
जोड़ती वो मोड़ती
टूटती हर बात को
लिपती और ढ़ोरती
कहती हर दीवार है
अलिखे को बांचती वो
लिखे का मूल सार है
बांटती और जापती
खुशी के हर राग को
ढूँढती और  ढांकती
पीड़ के विलाप को
नाचती वो कूदती
अवसरों पर बोलती
चुप्पियों को चुनती
वो मांगती न बोलती
मिले हुए को भोगती
जागती दिन-रात है



रचना:-माणिक

2 टिप्‍पणियां:

  1. मि‍ले हुए को भोगती
    जागती दि‍न रात है
    बड़ी ही दि‍लकश्‍ा पंक्‍ि‍तयां हैं।


    हमारी नवीनतम नज्‍म के लि‍ये पधारें
    http://rajey.blogspot.com/2010/08/blog-post_19.html#links

    जवाब देंहटाएं
  2. हर पंक्ति अर्थपूर्ण है। आपकी
    गहरी सोच को बयाँ करती है.....
    दिल को छूने वाले भावों की अभिव्यक्ति के
    लिए..... बधाई.

    जवाब देंहटाएं

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here