साहित्यिक पत्रिका ''कथाबिंब'' - अपनी माटी ई-पत्रिका

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

साहित्यिक पत्रिका ''कथाबिंब''

पत्रिका: कथाबिंब, अंक: 110, स्वरूप: त्रैमासिक, संपादकः डा.माधव सक्सेना ‘अरविंद’, पृष्ठ: 52, मूल्य:15रू.(.वार्षिक 50रू.), ई मेलःkathabimb@yahoo.com , वेबसाईट/ब्लाग:http://www.kathabimb.com/ , फोनः 25515541, सम्पर्क: ए-10 बसेरा आॅफ दिन क्वारी रोड़, देवनार मुंबई 400088

कथा प्रधान पत्रिका कथाबिंब का समीक्षित अंक आम आदमी का यथार्थ सामने लाता हुआ एक उपयोगी अंक है। अंक में वह चुप है(डा. रूपसिंह चंदेल), एक और एकलव्य(पुन्नी सिंह), इज्जत के रखवाले(डा. पदमा शर्मा) एवं मंथन(विवेक द्विवेदी) की कहानियों में किसी न किसी रूप में आम आदमी जुड़ा हुआ है। आनंद बिल्थरे, राजकमल सक्सेना, कुंवर प्रेमिल, आशफाक कादरी एवं सीमा शाह जी की लघुकथाएं मात्र चुटकुले न होकर सहज सरल रूप से अपनी बात सामने लाती है।

 गाफिल स्वामी, सच्चिदानंद इसान, पंकज शर्मा एवं जयदीप पाल दीप की कविताएं भी अच्छी व पठनीय है। इस अंक की समीक्षाओं का स्वर कुछ कमजोर लगा पत्रिका को समीक्षा व उसके लेखन पर ध्यान देने की आवश्यकता है। अन्य स्थायी स्तंभ व रचनाएं भी अपेक्षित स्तर की हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here