Latest Article :

प्रबंधन: कुछ छोटी कवितायें

Written By Arun Roy on बुधवार, सितंबर 01, 2010 | बुधवार, सितंबर 01, 2010


लक्ष्य
ग्राफों को
ऊपर ले जाने का है
किसी भी कीमत पर
किसी की कीमत पर


हम सभी
संसाधन हैं
उत्पादन के
जहाँ
संवेदनाओं के लिए
नहीं है कोई स्थान


आयात
निर्यात
के बीच
हिचकोले खाता है
रक्त चाप
प्रभावित नहीं करता अब
माँ की चिट्ठी


चार 'पी' के
सिद्धांत पर
टिका है
बाजार
संवेदनाएं
जहाँ पी से
नहीं होता है
प्रेम
पी से होता है
प्रोडक्ट
प्राईस
प्लेस
एवं
प्रोमोशन


कम
करनी है लागत
प्रतिस्पर्धी
बने रहना है
बाजार में
बंद कर दो
कुछ और
चूल्हे


इन दिनों
स्टॉक
ऊपर है अपना
बंद कर दो अब
'कॉर्पोरेट सोसल रेस्पोंसिबिलिटी'
जैसी फिजूलखर्ची

ये कवितायें दिल्ली  के वासी एक सरकारी अफसर अरुण रॉय की हैं ,जिन्हें ज्य़ादा अच्छे से ''सरोकार'' पर पढ़ा जा सकता है.वैसे इनका विविधता पूर्ण लेखन और उसमें भी लगातार बने रहना तारीफ़ मांगता है.
Share this article :

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत दिन बाद अरुण जी ने अपनी माटी पर लिखा है कही इस बार भी आपकी कविता का ये बांकपन लोगो को आकर्षित ना कर जाए.अरुण बाबू बधाई.आपकी एक कविता जो मैंने आपके अपने ब्लॉग''सरोकार'' पर पढी थी''घिसी हुई पेंट बेहद अच्छी लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत उम्दा परिभाषायें जैसे.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरुण की सभी कविताओं में अपनी माटी का स्‍वर दृष्‍टव्‍य है। जीवंत सरोकारों के कवि तकनीक से विह्व्‍ल भी लगते हैं परंतु तकनीक के महत्‍व को पूर्ण मन से स्‍वीकारते भी हैं। यही तो मन-धन है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सूत्रों में सटीक बात कह गए अरुणजी .

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रबंधन से जुडी अरुण राय की कवितायेँ आज के जीवन में बाजारवाद के प्रभावों के दुष्परिणामों का सटीक चित्रण है. वही बाजारवाद जो मनुष्य को भावनाविहीन रोबोट बनाने के लिए आतुर है.क्या हम धीरे धीरे रोबोट में परिवर्तित नहीं हो रहे हैं? अरुण राय कि कविता इस सवाल पर गंभीरता से सोचने पर मजबूर करती है .
    आलम खुरशीद

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरुण जी की कविताओं में विविधता होती है कभी प्रेम से सराबोर तो कभी जीवन के कटु सत्य से सरोकार रखती हैं इनकी कवितायेँ. अच्छी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बाजारवाद और आज की भोगवादी संस्कृति का कच्चा चिटठा सरोकार पर पढने को मिला. ज्यादातर यथार्थ से जुडी और विस्मित कर देने वाली कवितायें इस पोस्ट पर हैं . रचनाकार जमीं से जुड़े और अपने आसपास के परिवेश से विषयों को लेते हैं और उसके अनछुए पहलुओं पर प्रकाश डालने की पैठ रखते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  8. अरुण की सभी कविताओं में अपनी माटी का स्‍वर दृष्‍टव्‍य है

    उत्तर देंहटाएं
  9. चार 'पी' के
    सिद्धांत पर
    टिका है
    बाजार
    संवेदनाएं
    जहाँ पी से
    नहीं होता है
    प्रेम
    पी से होता है
    प्रोडक्ट
    प्राईस
    प्लेस
    एवं
    प्रोमोशन

    shandaaar!! sach me ye 4 Ps hi mayne rakhte hain......prem ko kaun puchhta hai ......:0

    Arun Sir!! sach me aap sabdo ke dhani ho........:)

    उत्तर देंहटाएं
  10. अरुण जी एक सिद्धहस्त कवि हैं. बड़ी चतुराई और सुघरता से गागर में सागर भर जाते हैं. भाषा की सादगी में मानवीय मूल्यों की घुटती सी अभिव्यक्ति हमारे दैनिक परिवेश के उपमानों में सर चढ़ कर बोलती है. संवेदना का पैनापन ऐसा कि हृदय में पीड़ा नहीं एक चुभन सी होती है. बहुत ही अच्छी प्रस्तुति बल्कि प्रस्तुतियों का समाहार !! धन्यवाद !!!

    उत्तर देंहटाएं

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template