Latest Article :

कविता-''सड़क''

Written By ''अपनी माटी'' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल on रविवार, सितंबर 05, 2010 | रविवार, सितंबर 05, 2010














लक्की मेले के रेले
या चाय पकौड़ी के थैले
समाया है सबकुछ यहाँ
बड़े घरों की गाड़ियां
कुछ झुरमुट कुछ झाड़ियाँ
चलती-बढ़ती देखी रोज़
झोले-झंडे लिए जातरू
पगडंडी  पर चलते हैं
भोंकते चढ़ते छाती पर
हांगते हैं कुछ कुत्ते यहीं
जबरन रोकते हैं गाड़ियाँ बेवजह
कुछ लोग खाते कमाते घर के
राजमार्ग है ,सीधा-चौड़ा मगर
सडकों पर भटके अक्कड़बाज
बात समझ ना अब तक, ऐसा क्यों 
पगडंडियाँ रही सलिके से सदा
जो चलती रही,चलती रही
महंगे जूते पहने कुछ लोग
कुछ क्या चले पैदल ,नापते हैं दूरियाँ
कुछ बेचारे बिन जूतों के
मिलों-मिलों लांगते हैं
गूंगी सी वो चिपटी रहती धरती से
जानती है सभी को अच्छे से
बोली नहीं बस सहती आई है
मौन धरा है जब से बनी है
सीधे-सीधे चलती है
वो कभी-कभार मुड़ जाती
उसके साथी अगल बगल हैं
कटे पेड़ और कुछ ठूंठ बचे हैं
कोई थूंकता है जोर से उस पर
कोई लिपट-चिपट सोता है
सड़क  भी सादगी को ओढ़े है
एक प्रश्न पूछना जरुरी है
क्या वो भी स्त्रीलिंग है ?

रचना:-माणिक
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template