आयोजन रपट:-लोक आयोजनों से राम कैलाश जी को श्रृद्धांजली दी - अपनी माटी

हिंदी की प्रसिद्द साहित्यिक ई-पत्रिका ('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

आयोजन रपट:-लोक आयोजनों से राम कैलाश जी को श्रृद्धांजली दी

तीन दिन तक चले पांच कार्यक्रमों के ज़रिए स्पिक मैके ने उत्तर प्रदेश के बिरहा लोक गायक राम कैलाश यादव को श्रृद्धांजली दी. इन आयोजनों के लिए राजस्थान के चार मांगनियार और चार मेघवाल लोक कलाकारों ने भुंगर खान मांगनियार जैसे युवा प्रबंधक के निर्देशन में भजनों के साथ लोक गीतों से कार्यक्रमों को गूंथ कर प्रस्तुत  किया जिन्हें श्रीताओं ने खूब सराहा. तेबीस तारीख,गुरुवार को हुए तीन आयोजनों के अलग अलग संयोजकं के अनुसार ये कार्यक्रम सफलतापूर्वक हुए .कार्यक्रम  से विद्यार्थियों को सत्संग शैली  के गायन को सुनने  का पहली बार मौक़ा मिला. लोकप्रिय लोक गीत तो सुने ही  ,मगर मीरा,कबीर और रामदेव जी से जुड़े भजन सुनना भी अपने आप में नया अनुभव रहा.

पहले आयोजन के प्रभारी और स्पिक मैके अध्यक्ष बी.डी.कुमावत के नुसार सुबह  साड़े आठ बजे चंदेरिया के चिल्ड्रन पेरेदाईज़  स्कूल में तीन सौ विद्यार्थियों ने भाग लिया. आयोजन में  कलाकारों का अभिनन्दन आकाशवाणी के नैमित्तिक उदघोषक दीपेश भटनागर,प्राचर्य श्रीमती स्मिता बक्सी ने किया वहीं पूरे कार्यक्रम का संचालन छात्रा रतनी मीणा और शीला गुप्ता ने किया.लगभग सभी प्रस्तुतियों में एक से गीत संगीत का माहौल रहा मगर पद्माराम जी ने अपने  खजाने के बहुत से भजन एक के बाद एक कर सुनाएं.

दूसरे  कार्यक्रम के संयोजक और स्पिक मैके समन्वयक जे.पी.भटनागर ने बताया कि बहुत लम्बे समय बाद बिरला शिक्षा केंद्र में पोपहर एक बजे झुए आयोजन में साड़े तीन सौ बच्चों ने बहुत ले और अनुशासन  में गीत सुने.और तालबद्ध  तालियों से कलाकारों को बहुत सराहना मिली.यहाँ दीप प्रज्ज्वलन और स्वागत ,स्कूल प्रबंधन  सचिव डॉ. एस.के.जैन,प्राचर्य एस.के.गुप्ता,संगीतप्राध्यापक  उदय प्रभाकर,छात्रों के प्रतिनिधि शुभम विजयवर्गीय,प्रत्यूषा मिश्रा,हर्षिता जागेटिया,रचित मूंदड़ा  ने किया.मूल रूप से बारमेर के गायक पद्माराम  के कुछ मधुर और  ठंठे गायन के साथ जैसलमेर के महेशाराम जी के तेज लय वाले भजन सुनना बहुत समन्वयवादी अनुभव था.साथ ही लोक गीतों में बहुत सधे हुए गले वाले साखी खान मांगनियार को भी बहुत दाद मिली.

इधर तीसरी प्रस्तुति जिंकनगर के इम्पीरियल क्लब के साथ हुए जिसे नगर के विद्यार्थियों के साथ अभिभावकों ने भी बहुत सराहा.रात्रिकालीन आयोजन होने से लोक गीतों और भजनों को सुनने का अनूठा अनभव था.यहाँ प्रस्तुति में बहुत सारे संगीतप्रेमी नगर से भी आए.यहाँ सबसे लम्बे समय चली प्रस्तुति के संयोजक इम्पीरियल क्लब सचिव जी.एन.एस.चौहान के अनुसार कर्मचारी नेता और क्लब के उप सरंक्षक  घनश्याम सिंह राणावत,यूनियन  के उपाध्यक्ष एस.के.मौड़,क्लब अध्यक्ष के.एस.गौड़,उपाध्याक्ष बी.एल.घारू,कार्यक्रम सचिव,मंजीत सिंह,खेल सचिव पी.एस.राठौड़ ,के.एस.राणावत,सांस्कृतिक सचिव देवेन्द्र जैन ने  कलाकारों का स्वागत मालाओं से किया.

तीनों ही प्रस्तुतियों में कवि मीरा,कबीर,लोक देवता रामदेव के भजन प्रमुख रूप से सुनाए गए.बाकी लोक गीतों में प्रसिद्ध गीत केसरिया बालम पधारो म्हारे देश,दमादम मस्त कलंदर,गौरबंध,झालो,घूमर को सबसे ज्य़ादा पसंद किया गया.बीच बीच में ढोलक,हारमोनियम और खड़ताल पर तीगलबंदी बहुत भाई.स्पिक मैके का आगामी आयोजन पांच अक्तूबर को होगा जिसमें कोलकाता के कठपुतली कलाकार सुदीप गुप्ता आयेंगे. वे एक लाईट और साउंड का पपेट शो प्रस्तुत करंगे.

माणिक
राष्ट्रीय  कार्यकारिणी सदस्य

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here