Latest Article :

मेरी बांहों में खुशियों की बारात है

Written By Rajesh Tripathi on बुधवार, सितंबर 08, 2010 | बुधवार, सितंबर 08, 2010

गीत

आपका साथ है, चांदनी रात है।

मेरी बांहों में खुशियों की बारात है।।

मैंने सपनों में बरसों तराशा जिसे।

वही मन के मंदिर की मूरत हो तुम।।

तारीफ में अब तेरी क्या कहूं।

खूबसूरत से भी खूबसूरत हो तुम।।

रंजो गम मिट गये मिल गयी ऐसी सौगात है।

मेरी बांहों में खुशियों की सौगात है।।

तुम मिली जिंदगी जिंदगी बन गयी।

तेरी चाहत मेरी बंदगी बन गयी ।।

नजरों में तुम, नजारों में तुम हो।

महकती हुई इन बहारों में तुम।।

तुम मेरी कल्पना, तुम मेरी रागिनी,
बस तुम्ही से ये मेरे नगमात हैं।

मेरी बांहों में खुशियों की बारात है।।

कामनाओं ने लीं फिर से अंगडाइयां।

यूं लगा बज उठीं फिर से शहनाइयां।।

हवा मदभरी फिर लगी डोलने।

बागों में कोयल लगी बोलने।।

क्या तेरे हुश्न की ये करामात है।

मेरी बांहों में खुशियों की बारात है।।

मन हुआ बावरा यूं तेरे प्यार में।

तुम बिन भाता नहीं कुछ भी संसार में।।

तुमसे शुरू प्यार की दास्तां।

खत्म भी तुम में होती है ऐ मेहरबां।।

अब तेरे बिन नहीं चैन दिन-रात है।

मेरी बांहों में खुशियों की बारात है।।



राजेश त्रिपाठी


Share this article :

1 टिप्पणी:

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template