आयोजन निमंत्रण :-'' पद्माराम जी के भजनों से राम कैलाश यादव को श्रृद्धांजली'' - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

आयोजन निमंत्रण :-'' पद्माराम जी के भजनों से राम कैलाश यादव को श्रृद्धांजली''


पद्माराम जी 
देश का सांस्कृतिक छात्र आन्दोलन स्पिक मैके आने वाले बीस सितम्बर से दो अक्टूबर तक हाल ही चल बसे बिरहा गायन सम्राट राम कैलाश यादव को श्रृद्धांजली हेतु राजस्थान में कुछ कार्यक्रम करेगा.राम कैलाश जी जैसे वरिष्ठ लोकाकलाकर्मी का जाना बहुत बड़ा खालीपन दे गया है.हमें स्पिक मैके के राष्ट्रीय सलाहकार अशोक जैन ने बताया कि इन दिनों राज्य भर में आयोजित विरासत समारोह के बाकी रहे सभी कार्यक्रम भी राम कैलाश जी को याद करते हुए आयोजित किए जायेंगे. उनके निधन पर स्पिक मैके आन्दोलन के सभी कार्यकर्ता बहुत आहत हैं.

ख़ास तौर पर उन्हें अभी राजस्थान के मांगनियार कलाकार भी अपनी श्रृद्धांजली प्रस्तुतियों के ज़रिए उन्हें ये श्रृद्धांजली देंगे.लोक कलाकारों के इस समूह के प्रबंधक भुट्टे खान मांगनियार के अनुसार ठेठ पश्चिमी राजस्थान में बसे और बारमेर के खेत्र कुंडल गाँव में जन्मे पद्माराम जी अपने मीरा भजनों के लिए जाने जाते हैं.वे बहुत सादे इंसान हैं जो आज भी सादगीभरी शैली में भजन गाते हैं. इस यात्रा में उनके साथ पूरा दल होगा. मंडली के एक और उम्दा भजन गायक महेशाराम साथ रहेंगे, जो पद्माराम जी की तुलना में कुछ कम उम्र के हैं और वे मीरा के भजनों को सत्संगी  शैली में गाने वाले ऐसे  कलाकार है जिनका मिलना मुश्किल है.

मांगनियार दल में अन्य संगत कलाकारों में खड़ताल वादक भूंगर खान ,हारमोनियम पर शाखी खान ,ढोलक वादक पप्पा खान,मंझिरा वादक नाराणा राम और कामयाचा वादक कंवरु खान शामिल होंगे.पद्माराम जी को अस्सी सालाना बुढापे में भी सैकड़ों भजन कंठस्थ याद हैं.उनके भजनों की विविधता से  कबीर,मीरा,तुलसी,रामदेव,सादुल जैसे महान रचनाकार झांकते रहे हैं.देश के साथ वे विदेश भी इस कला यात्रा को आगे बढाने हेतु कई संथाओं द्वारा यथासमय किए गए हैं.यूं उनकी यात्रा चलती रही और वे लोगों की पसंद बन गए.उन्हें मरुधरा सम्मान  से भी नवाज़ा गया.फिलहाल बारमेर के धरोहर संस्थान से जुड़ कर  कला साधना को जारी रखते हुए उसे प्रयाप्त रूप से संवर्धित  और प्रचारित कर रहे हैं.

उनकी प्रस्तुतियां 20 को सिरोही, उदयपुर दरीबा माईन्स चित्तौडगढ़ कोटा जयपुर अलवर बनस्थली अजमेर नाथद्वारा और फिर चित्तौडगढ़  में होनी हैं. चित्तौडगढ़ के समन्वयक जे.पी.भटनागर ने बताया कि वे तेईस सितम्बर को प्रात; साड़े आठ बजे चंदेरिया स्थित चिल्ड्रन पेरेडाइज़ सेकंडरी स्कुल ,दोपहर एक बजे माधव नगर स्थित बिरला शिक्षा केंद्र और शाम साड़े सात बजे जिंक नगर स्थित एकजुकेटिव हॉल में इंपीरियल क्लब और हिंद जिंक स्कुल  के लिए प्रस्तुति देंगे.कार्यक्रमों की तैयारी हेतु एक समिति बनाई गई है जिसमें बिरला स्कुल प्राचार्य एस.के.गुप्ता,इंपीरियल क्लब सचिव जी.एन.एस.चौहान ,स्कुल निदेशक अनिल सिंह राठौड़,स्पिक मैके चित्तौड़ के अध्यक्ष बी.डी.कुमावत सदस्य होंगे. 

             
                          
                       

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here