दीपक शर्मा की रचना - अपनी माटी

नवीनतम रचना

सोमवार, सितंबर 06, 2010

दीपक शर्मा की रचना

"कितने बच्चे सोते हैं रोज़ रखकर पेट में लातें अपनी
बना नहीं अभी कच्चा है कह देती है जब रोकर जननी ।
भोर हुए उठते हैं जब पाते हैं दो ही सिकी रोटी
रोटी दो , बच्चे हैं छ: , भूख से बच्ची छोटी रोती,
कंठ डुबोकर आंसुओं में थककर बच्चे सो जाते हैं ।
सपनों में भी देखकर रोटी रोटी-रोटी चिल्लाते हैं ॥

एक तरफ है पैसों की कमी , एक तरफ खूब बर्बादी है
एक भाई हँसे रोये दूजा रोये भला ये कैसी आज़ादी है ।
अपनी जिद की खातिर कुछ लोग पानी सा धन बहाते हैं
तनिक-तनिक सी बात-बात पर उत्सव रोज़ मनाते हैं ।
नहीं कुछ परवाह औरों की इनको तो जश्न मनाना है ।
जो भरे हुए मस्त बादल हैं उनको ही नीर पिलाना है ॥

तुम चाहते हो उत्सव करना ,रोतों को हँसियाँ बाँटो
जो पानी पीकर जीते हैं तुम उनको रोटी बाँटो ।
हम अलग -अलग चलेंगे तो दुनिया हमको खा जायेगी
मिटटी के मोल बिक जायेंगे , दासता फ़िर से छा जायेगी

मिलकर सबको निज देश का फ़िर भाग्य बनाना होगा
जो घिरे हुए हैं अन्धेरे में उन्हें दीप दिखाना होगा ।
मानवता के मूल्यों का यही सही मूल्य कहलायेगा
जब ज्ञान - दीप से मानव अज्ञान का तिमिर मिटाएगा ।
भूख, गरीबी, लाचारी के सब शब्द इससे मिट जायेंगे
भोजन होगा हर प्राणी को ,मुख कमल सा मुस्कुराएगा ।

कवि दीपक शर्मा
+91 9971693131

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here