परिसंवाद रपट:-‘‘बालश्रम मुक्त हो चित्तौडगढ हमारा’’-पीयूसीएल,चित्तौडगढ - Apni Maati Quarterly E-Magazine

नवीनतम रचना

परिसंवाद रपट:-‘‘बालश्रम मुक्त हो चित्तौडगढ हमारा’’-पीयूसीएल,चित्तौडगढ

पीपुल्स यूनियन फोर सिविल लिबर्टीज, राजस्थान
(जिला इकाई चित्तौडगढ)

पीपुल्स यूनियन फोर सिविल लिबर्टीज, राजस्थान कि जिला चित्तौडगढ इकाई की बैठक  29 सितम्बर 2010 को 8, विजय कॉलोनी, रेल्वे स्टेशन के पास, चित्तौडगढ में पूर्व प्राचार्य एवं समाज सेवी डॉ. के. सी. शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित हुई। इस बैठक में 20 ऐसे सदस्यों ने भाग लिया।जो कहीं न कहीं समाज और संस्कृति के लिए  सक्रिय कार्यकर्ता के तौर पर काम कर रहे हैं. पी.यू.सी.एल. की जिला इकाई को क्रियाशील करने एवं संगठन में सदस्यता बढाने के उद्देश्य  से साधारण सभा की बैठक आहुत की गई। जो बाद में मुद्दों पर बात करते करते परिसंवाद का रूप ले गई.प्रयास संस्था के सचिव  डॉ. नरेन्द्र गुप्ता ने पी.यू.सी.एल.  संस्था और इसके आन्दोलननुमा गतिविधियों के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश , बिहार, राजस्थान और आंद्रप्रदेश में यह संगठन ज्यादा सशक्त  है।

पीयूसीएल चित्तौड़ इकाई  के अध्यक्ष डॉ. के.सी. शर्मा ने आमंत्रण देते हुए बताया कि पी.यू.सी.एल. राजस्थान का 2-3 अक्टुबर 2010 को जयपुर में होने वाले 8वें राज्य सम्मेलन में भागीदारी करनी है. चर्चा के दौरान पी.यू.सी.एल. के संविधान एवं सदस्यता अभियान पर भी विस्तार से चर्चा हुई । डॉ. शर्मा ने कहा कि गांव में जातिवादी अन्तर और उससे उत्पन्न स्थितियों पर कार्य करने की आवश्यकता है और उन्होने कहा कि अयोध्या विवाद से सम्बन्धित जो फैशाला आए उसका सभी सम्प्रदाय के लोगो को न्यायालय के फैसले का सम्मान करना चाहिए।  सभ्रान्त समुदाय सद्भावना का परिचय देते हुए देश  की एकता और अखण्डता को कायम रखने के लिए अमन, चेन और शान्ति बनाए रखने का पूरजोर प्रयास करें ताकि राष्ट्र का विकास उचित गति पा  सके ।

संगठन की भावी योजनाएं एवं गतिविधियों पर चर्चा करते हुए स्पिक मैके के चित्तौड़ शाखा समन्वयक जे.पी. भटनागर एवं फादर जॉन पी. अब्राहम ने कहा कि संगठन की गतिविधियों को बढाना चाहिए जिसमें चित्तौडगढ जिले को बाल श्रम मुक्त बनाने के लिए विशेष अभियान चलाना पारित हवा । तय हुआ कि शहर के लोगों से अपील की जाएगी कि वे बच्चों की शिक्षा एवं उनके स्वास्थ्य पर होने वाले व्यय के लिए आर्थिक मदद और मार्गादर्शन  करें किन्तु मदद के एवज में बच्चों से श्रम नही करवाएं । बालश्रम के अभिशाप मिटा कर इस समस्या को  समूल नष्ट करने के लिए पर्चे, बेनर, हॉर्डिग, नारा लेखन, अपील इत्यादि के माध्यम से काम तेज किया जाएगा। इस हेतु  आर्थिक सहयोग को भी उपस्थित सदस्य आगे आए.। बैठक के अन्त में सभी ने एक ही आवाज में कहा कि हम सब का एक ही नारा, बालश्रम मुक्त हो चित्तौडगढ हमारा के साथ सधन्यवाद सभा समाप्त की गई। 

परिचर्चा में अपनी माटी के सम्पादक माणिक,प्रयास संस्था के रामेश्वर शर्मा,छत्रपाल सिंह,प्रतिरोध संस्था के खेमराज चौधरी,अरावली संस्थान के तंवर,सेवानिवृत अभियंता विशेष कुमार गर्ग,शशि भाई,समाजशास्त्र के व्याख्याता डॉ. एच.एम्.कोठारी सहित कुछ गांवों में नरेगा जैसे मुद्दों पर बहुत लम्बे समय से काम रहे कार्यकर्ता भी मौजूद थे.परिचर्चा के अंत में पी.यूं.सी.एल. के सम्मलेन में जाने वाले सदस्यों के नाम तय हुए,वहीं कुछ सदस्यों ने सदस्याता का नविनीकरण भी कराया. नवीन सदस्यों को संस्था का संविधान पढ़ाया गया.
परिचर्चा में सर्वसम्मति से डॉ. के.सी.शर्मा को अध्यक्ष और जे.पी.भटनागर को उपाध्यक्ष बनाया गया. कार्कारिणी का विस्तार आने वाली बैठक में किया जाएगा.अंत में डॉ. के.सी.शर्मा ने आभार जताया.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here