Latest Article :
Home » , , , , , » माणिक की कविता;चमकी महल की दिवारें

माणिक की कविता;चमकी महल की दिवारें

Written By ''अपनी माटी'' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल on गुरुवार, नवंबर 04, 2010 | गुरुवार, नवंबर 04, 2010

सांप,अज़गर,बर्रे और तत्तैया
बसते थे जहां घर समझ कर
मज़दूर घास काटते रहे दिनभर
अब मैदान साफ़ है वहाँ 
पाईप लम्बे करते रहे पानी के
बाल्टियां भरकर सिंचते रहे बगीचा
कुए की चड़स तक जा चलाई
तब चमकी महल की दिवारें
दालान और गलियारे
रंगीनियाँ बढ़ गई बगीचे की
सब कुछ लेकिन बन गया
जंगल में नाचा मोर
हकीक़त कौन जानता है
नहीं खुदेंगे शिलालेख 
ना बनेंगे ताम्रपत्र
उनकी साहसिक लगती दिहाड़ी पर
भर तो दी है हाज़री सुपरवाईज़र ने
सबूरी है इसी में उन्हें
साफा कोई और पहन गया
रिब्बन कोई और काट गया
मोली बंधन खोल गया कोई और
उनको तो बस खुशी थी
लड्डू बंटने की
 रास आई उन्हें तो बस
उदघाटन के एवज़ में मिली छूट्टी
कसीदे पढ़ने वाले भूल गए
बेवई पड़े पैरों की मज़दूरी
नहीं दिखी कहीं समारोह में
सोच यही आज फिर से आया
किले के विरान महल में
बतियाने बैठा कुछ देर
उन रस्सियाँ बाँधते,मचान बनाते
उपर तक पोतने वाले कारीगरों से
घोखड़े पोछती उन महिलाओं
का मन हल्का कर आया
रामा,हुकमा और किशना
जैसे उनके नाम थे शायद
बदामी और रामकन्या
ईंटे ही भरती रही तगारी में
कुछ करीब से लगने लगे वे लोग
एराल सूरजपोल,गोपालनगर 
गाँव के मजूर
जो रहते दिनभर महलों में
और रात बिताते बस्ती में
रहरह कर याद आते हैं
फटी दरारें फिर से मुंदते
उखड़ी दिवारें फिर से चुनते कारीगर
 अब जाकर कुछ चालाक हुए
वे अब देखते नहीं सपने
शिलालेख और ताम्रपत्रों के
कि लिखा जाएगा उनका भी नाम 
अब दिल केवल दिहाड़ी में लगता है
ये  इमारतें अब महल नहीं लगती
गरीबी में धंसी उन आँखों को
दिखता है
मजुरी का मेहनताना
बात जोहते हैं सूरज ढलने की
जो पकाता है मज़दूरी
और जलाता है चूल्हा
ये हद थी आखिर
लगाते कब तक दिल अपना
किले,महल और दीवारों से
जहां मिलती है खाली मजुरी
(ये कविता चित्तौड़ दुर्ग के रतन सिंह महल में मेरे भ्रमण के दौरान उपजे विचारों पर आधारित है )
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template