Latest Article :
Home » , , , , , » माणिक की कविता:एक पुरानी बस्ती

माणिक की कविता:एक पुरानी बस्ती

Written By ''अपनी माटी'' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल on शनिवार, नवंबर 06, 2010 | शनिवार, नवंबर 06, 2010

 एक पुरानी बस्ती भी है 
मेरे शहर के किले में
लोग रहते है,मिलते है 
खाते है,कमाते हैं 
घरों में भरे हैं बूढ़े,ज़वान औए बच्चे
चलती है ज्य़ादा इधर भी युवाओं की ही 
बेकाम के लगते है 
बूढ़े लोग और किला सभी को
कुण्ड बावड़ियों में नहाते हैं
मनाते हैं हर त्यौंहार
मौत-मरण,मुंडन और ब्याह
होता आया सबकुछ यथासमय
नहीं हुआ तो किले का जीर्णोंद्धार
और बातें बुजुर्गों की हुई अनसुनी  कई बार 
आदमी रोज चढ़ता है किला
उतरता है रोज़
जाने को कारखानों,मीलों में 
चढ़ने में चढ़ाव दिखता है
 उतरने में ढ़लान दिखता है
मगर दिखती नहीं
किले की दीवार
जो हर मौड़ पर हाँफती है आज़कल
बुढ़ाते पत्थर रूक जाते हैं कहते हुए
शायद वो जल्दी में होगा
कह लेंगे कभी भी
आदमी भले घर का लगता है 
तुम क्या जानों उस आदम को
राह नफे की जो नापे 
रास्ते के मंदिर का पुजारी कौन है
उसे पता नहीं
पूछ मत लेना उसे
डाल देगा गफलत में तुमको भी 
कहाँ पता उसे कि कब 
पलट गई पूरी तस्वीर
सात में से चार चटक गए दरवाज़े
बनवीर की दीवार अब कम ऊंची है
यहाँ का आदमी सोता है
जागता है उठने के लिए
नहीं मालुम उसे आज़कल
कुरेद रहे हैं लोग शिलापट्ट बेवज़ह
कूदते है बन्दर जौहर स्थल में 
हांग रहे हैं खंडहरों में लोग जानबूझ
घोड़ों को छोड़ कुत्ते पाल रहे हैं 
कुछ कम गहरी पर मनमोहक 
झीलों में अटा पड़ा है कचरा
सब बस्ती की माया है
रास्ते संकड़े हो गए हैं
किले में जाती गलियाँ में 
निकल आए हैं चौंतरे आगे तक 
देखी है और भी बस्तियां मैंने 
तुमने भी देखी होगी कुछ तो
हर शहर में मिल जाएगी 
ऐसी बस्ती,ऐसे लोग
किले ना ऐसे फिर मिलेंगे
शहर ना ऐसे फिर रहेंगे


(ये कविता चित्तौड़ दुर्ग के रतन सिंह महल में मेरे भ्रमण के दौरान उपजे विचारों पर आधारित है )
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template