अशोक जमनानी की ग़ज़ल:-''और उम्र दे'' - अपनी माटी

नवीनतम रचना

शनिवार, नवंबर 13, 2010

अशोक जमनानी की ग़ज़ल:-''और उम्र दे''








ज़िंदगी ये मेरी बहुत कम है पड़ गयी 
उनको है भूलना तो ख़ुदा और उम्र दे 

दर्द मेरे घर का आंगन भी है बिस्तर भी 
कुछ कोने अभी खाली ख़ुदा और उम्र दे 

मैं शहर में पूरी तरह बदनाम नहीं हूँ 
कुछ कर गुजरना है ख़ुदा और उम्र दे 

मेरी बातें सुनकर ही कुछ लोग रो दिए  
कुछ दोस्त अभी बाकी ख़ुदा और उम्र दे

जो मेरे पास था वो सब दफ़्न कर चुका
कुछ ख्वाब अभी बाकी ख़ुदा और उम्र दे 

कई आस्तीनों में अभी कुछ भी नहीं पलता 
कुछ संाप ढूँढने  है तो ख़ुदा और उम्र दे

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here