रिजवान चंचल की एक कविता - अपनी माटी

नवीनतम रचना

बुधवार, नवंबर 17, 2010

रिजवान चंचल की एक कविता

कवि के दिल का दर्द ही तो कविता होती है
हर दर्दे दिल का दर्पण कविता होती है
          दर्द बयां ये कर देती है
         शब्द-शब्द यह गह लेती है।
जन्म ये लेती है विपदा से
          कविता है अनमोल सदा से
कंटक हों जिस राह वहॉ भी चल देती है
कवि के दिल का दर्द ही तो कविता होती है।
           पत्थर को ये मोम बनाये
           यम से भी ये टकरा जाये
ये जागे और दुनिया सोये
सागर में मोती ये बोये
          नभ के तारे भी चंचल ये गिन लेती है
          कवि के दिल का दर्द ही तो कविता होती है।

   कोठी न0 - 1 खंदारीलेन   लालबाग  लखनऊ
   सम्पर्क-09450449753
   redfile.news@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here