रिज़वान चंचल की एक तुकांत मगर भावपूर्ण कविता - अपनी माटी ई-पत्रिका

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

रिज़वान चंचल की एक तुकांत मगर भावपूर्ण कविता

गर्भ में चीख पड़ी लाचार 
देखकर खंजर की वो धार
रूह भी कांप गई उसकी
 रो पड़ी ले ले के सिसकी
       जुटा कर साहस वो बोली
 न चाहूं सजना न डोली
       न हम पे खंजर ये तानो 
मेरी पीड़ा को पहचानों
करूंगी बढ़-चढ़ कर हर काज 
सभी को होगा हम पर नाज
रहूंगी सदा आत्म निर्भर 
करूंगी सेवा जीवन भर
       रोक लो हाथ बढ़ रहा है
 पास खंजर आ रहा है
       खड़े हो हे पापा क्यों चुप 
ये खंजर कहीं न जाये घुप
हूँ जीना चाहती मैं भी हूँ 
 बेटों की जैसी बेटी
बचा लो मुझे बचा लो तुम
 मूर्छित मम्मी भी गुम सुम
       हुआ खंजर का तब तक वार
 रक्त रंजित हुई लाचार
हिचकियां लेकर वो बोली
 सजा दी गर्भ में डोली
बिगाड़ा मैने किसका क्या
 मिला चंचल सिला जिसका।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here