किरण राजपुरोहित नितिला की रचनाएं - अपनी माटी ई-पत्रिका

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

किरण राजपुरोहित नितिला की रचनाएं

मेरा नन्हा दीया

दीवाली की शाम  सूरज 
जब लौटकर अस्ताचल आया
मेरे नन्हे दीये को देख
मुग्ध हो मंद मंद मुस्कुराया
मैंने अर्पित की कुछ उसे 
किरणें सुनहरे प्रका की

हैरत से थाम,फिरा दिया
उसने जहां  अंधेरी रात थी 
सुखी वह धरा की गोद में 
बरस की थकन मिटा रहा था
तिमिर दुबका  था ,मेरा
नन्हा दीया मुस्कुरा रहा था!!....
.
मैं नये सिरे से.....

क्या बच जाता है 
किसी के पास 
 जब वह कहे
‘‘ मैं हमेशा  तुम्हारा रहूंगा ’’
लेकिन
 पल घड़ियां दिन
 बीतते उग आता है 
एक नया  इंसान 
अब से थोड़ा हटके
 नयी देखी सोचों के साथ 
जो बिलकुल अनजाना सा 
रहता स्वयं से ,
लगता कोई आये
 और 
बखूबी जैसा वो चाहे 
जैसे अब तक
 न किया गया हो
नये सिरे से परिभाषित कर दे!!...

तुम्हें पता है ???     

बादलों की अनधुनी
अधधुली रुई
सिमटी है मेरे आंचल में 
महसूस किया तुम्हें
मैंने और 
भीगे तुम मेरे प्यार में 
लहर लहर लहराये
 तुम्हारे इषारे 
पत्तियों में छनती धूप की तरह
 मेरे हदय आंगन में
 समेट लिया 
तुम्हारे छुए प्यार को 
पवित्र ओस की तरह
 और सज गया एक फूल
 मेरे जीवन में 
हूबहू तम्हारी तरह !!!!
तुम्हें पता है ???
 वो फूल
 अब भी 
इर्द गिर्द ही है 
मेरे !!....
 किरण जी का बहुत ज़रूरी परिचय :-बी ए सितार राजस्थानी साहित्य ,एम ए राजनीति
  • -नया ज्ञानोदय, परिवार पत्रिका, सेतु, मुक्ता, तत्सम, मधुमती, दीप ज्योति, अहिल्या प्रयास,हम सब साथ साथ  आदि से कहानियां।
  • -कादम्बिनी, मधुमती, समग्र दृष्टी , सरस्वती सुमन, कथा सागर, साहित्य चंद्रिका, मानसी,प्रयास,दीप ज्योति, साहित्य सागर,  अहिल्या साहित्य अमृत मालवा माणक आदि में कवितायें।
  • -अहा!जिंदगी, दीप ज्योति, माणक, शिष्ट  विनोद, समग्र दृश्टि, मधुरिमा  साहित्य सागर आदि से लघु कथायें व संस्मरण प्रकाषित।
  • ...साहित्य अमृत,समग्र दृश्टि,अक्षर पर्व,आजकल, दीप ज्योति,से रेखाचित्र व अन्य पत्रिकाओं में पेंटिग मुख  पृष्ठ पर प्रकाशित ।
  • -ई -पत्रिकायें अभिव्यक्ति, स्वर्ग विभा, साहित्य कुंज,अपनी माटी  आदि से कहानी,कवितायें,रेखाचित्र,लघु कथा ,तैल चित्र व रेखाचित्र प्रकाशित 
  • -अक्षर पर्व,साहित्य प्रोत्साहन, साहित्य चंद्रिका  से रेखाचित्र प्रकाशित  ।    -पत्रिकाओं के मुख पृष्ठ  पर चित्र।
  • -2007 हस्त शिल्प  मेला ,जोधपुर व 2008 में तैल चित्रों की युगल  प्रदर्शनी  व पेंटिंग  सेमीनार का आयोजन।
उनके बनाएं हालिया रेखाचित्र भी 

1 टिप्पणी:

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here