Latest Article :

पुस्तक समीक्षा :-अरविन्द श्रीवास्तव द्वारा पुस्तक '‘इस शहर के लोग'’

Written By अपनी माटी,चित्तौड़गढ़ on शनिवार, नवंबर 06, 2010 | शनिवार, नवंबर 06, 2010

पिछले वर्ष 2009 मे ‘पेड़ों का समय’ और अभी-अभी ‘इस शहर के लोग’ ने कविता जगत में मानिक दा की मिल्कियत को पुख्ता किया है। उम्र के इस मुकाम पर ‘जड़’ के प्रति उनका सम्मानपूर्वक स्नेह, प्रेम व उदगार अचानक नहीं फूटा है। फीजी, मारीशस और सुरीनाम सदृश्य देशों में फैले सभी सचेतन नागरिक अपने इतिहास से उतना ही जुड़ाव महसूस कर सकते हैं  जितना मानिक बच्छावत सहित हम। बाजारवाद और महानगरीय भागम भाग में देशज संवेदनाओं को बचाये रखने की जिजीविषा कि जैसे छिपा रहता है गन्ने में रस, मेंहदी में रंग और रेत में असंख्य जलस्रोत, कवि ने बीकानेरी माटी की सोंधी खुश्बू संग्रह की 45 कविताओं में उड़ेल दिया है - लूण जी बाबा, हसीना गूजर, तीजा बाई रोवणगारी, खुदाबक्स फोटोग्राफर, भूरजी छींपा, गपिया गीतांरी, तोलाराम डाकोत, मियां खेलार, जिया रंगारी, नत्थु पहलवान, जेठो जी कोचवान, जेसराज जी की कचैड़ियाँ, हमीदा चुनीगरनी जैसे अनेक पात्र, जो बीकानेर की यादों के साथ कवि के कवित्व का महत्वपूर्ण हिस्सा बन ताउम्र जुड़े रहने को संकल्पित दिखते हैं। देखें बानगी - कविता ‘मेहतरानी’ -........ मेरी पत्नी आए दिन उसे/ कुछ न कुछ देती है/ कहती/ उसका कर्ज इस जन्म में/ नहीं चुकेगा/ राधारानी भी कहती/ अपना फर्ज निबाहेगी/ जब तक जिएगी/ बाईसा की हवेली पर आएगी। 
गोदना गोदने की कला में माहिर ‘नैणसी गोदारा’ के हुनर का किस तरह बाजारीकरण हुआ है, कवि मर्माहत हो लिखाता है - अब यह पेशा नैणसी से छूटकर/ ब्यूटी पार्लरों और फैशन की दुनिया में/ पहुँच गया/वह हजारों का खेल बन गया/ अब / यह प्राचीन गोदना कला से/ आर्ट आफ टैटूइंग होकर/अपना करिश्मा दिखा रहा है/ ऐसे में अब नैणसी कहाँ होगा ? बीकानेर की महान विरासत में जो साझी संस्कृति रही है उसकी मिसाल ‘पीरदान ठठेरा’ में दिख जाता है - पीरदान/ आधा हिंदू था आधा मुसलमान/वह ठठेरा कहता मैं/ इस बर्तनों की तरह हूँ जिनका/ कोई मजहब नहीं होता। वहाँ ‘हसीना गूजर’ बेरोक-टोक लोगों तक / दूध पहूँचायेगी/ कौमी एकता का गीत गायेगी। यहाँ कवि वर्तमान के जटिलतर रिश्तों के लिए गरिमायम आश्वस्ति प्रदान करता दिखता है। कवि अपने कोमल अनुभूतियों, स्मृतियों तथा बीकानेर के समाज संस्कृति और परिवार को बड़े कैनवस पर सजीवता से पेश कर ‘अपनी माटी’ (बीकानेर) को समर्पित कर उऋण होने का प्रयास किया है। मानिक बच्छावत देश के चर्चित कवि रहे हैं, इनकी कविताएं तमाम स्तरीय पत्रिकाआ में प्रकाशित होते रही है ‘इस शहर के लोग’ साहित्य जगत के लिए एक नायाब तोहफा है।

लेखक:-मानिक बच्छावत-समकालीन सृजन,20, बालमुकुंद मक्कर रोड,कोलकाता- 700 007,मोबाइल - 09830411118.
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template