Latest Article :
Home » , , » रूचि राजपुरोहित ‘तितिक्षा’ की नवोद्भिद रचनाएं

रूचि राजपुरोहित ‘तितिक्षा’ की नवोद्भिद रचनाएं

Written By ''अपनी माटी'' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल on शुक्रवार, नवंबर 12, 2010 | शुक्रवार, नवंबर 12, 2010

     एम. एससी. (अंतिम वर्ष में पढ़ रही  रुचि की ये दो रचनाएं इस अपेक्षा के साथ यहाँ छाप रहे हैं कि ये इनके आगे बढ़ने का वक्त है. ''अपनी माटी'' वेब मंच  उनके लगातार आगे बने रहते हुए उनसे ज्य़ादा धारादार लेखन की कामना करता है.वे अभी तक कई पत्रिकाओं में छप चुकी है जैसे गुलाबी जगत,राज.परिषद् ,राज ज्योति, आगम सोची, प्रयास, दृष्टिकोण , दीप ज्योति कुछ नाम हो सकते हैं उनकी रुचि रेखाचित्र एवं जल रंगकला में भी है-सम्पादक 
प्रस्तुत है रचनाएं    
  
         
  नन्ही परी 

देख तेरे आँगन आई नन्ही परी
हर तरफ से देखो 
वह प्रेम से भरी,
सुनकर उसकी कोयल सी आवाज
चला आए  तू उस आगाज
जहाँ वह खेल रही
देख तेरे आँगन 
आई नन्हीं परी,
वह ले जाती तुझे
किसी और लोक में
जब होती वह 
तेरी कोख में
तेज आवाज सुन
वह दुनिया से डरी
देख तेरे आँगन 
आई नन्हीं परी,
रौनक वह आँचल 
में लेकर आई,
पास है उसके
चंचलता की झांई
जिसको छूकर
तू हो गई हरी
देख तेरे आँगन
आई !!नन्ही परी 

   
संघर्ष 

 जीवन संघर्ष है हर्ष है,
संघर्ष को देख हर्षोल्लास 
बना रहा नया आकाश ,   
इस संघर्ष को धरती
भी कहती है अविनाश ,
उस चुनौती को स्वीकार करो
कल की कमी का सुधार करो
पल-पल इम्तहान होगा
आगे संघर्ष का मैदान होगा,
अगर नींद चैन छोड़कर
खरे उतरोगे तुम तो यह काज
 चरित्र महान् होगा
आज नहीं तो कल यह
तुम्हारा जहान होगा !!
Share this article :

1 टिप्पणी:

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template