Latest Article :
Home » , , , , , » माणिक की कविता:-अब अकुलाते है मुद्दे समाज के

माणिक की कविता:-अब अकुलाते है मुद्दे समाज के

Written By ''अपनी माटी'' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल on गुरुवार, दिसंबर 23, 2010 | गुरुवार, दिसंबर 23, 2010

किराए के मकान की लम्बी और चौड़ी छत
उजाला पसरता है जहां
किले की ओट से निकले सूरज के बूते 
खैरात में बंटे लड्डू सा 
एकदम मुफ्त लगता है
ऐसे में ही पनपते है कई विचार
चाय की चुस्कियों के बीच
जब मध्यम पड़ जाती है घर की चिंताएं
और अकुलाते है मुद्दे समाज के 
कम ऊंची मुंडेर से सटी 
आराम कुर्सी का आराम भोग 
विचार-दर-विचार ओढ़े बैठा रहना मेरा 
देर तलक सोचना
चश्में की डंडी नाक पर अटकाए
याद आता है आज फिर जब 
पुष्य नक्षत्र के अखबारी आलेख असरदार थे 
टी-टेबल खरीदी थी हमने भी पत्नी के कहने पर  
काम आती थी  टाँगे लम्बी करके
एक हुकुम पर चाय बनवाने में बारबार 
कभी ताज़ा अखबार होता था सामने
कभी पुरातन किला शहर का
चोला बदलती रंगीन खबरें तक चुभती थी
आँखों को जाने क्यूं 
खुरदरा किला मगर सुहाता था
 निरुत्तर हूँ आज भी 
हाज़री रजिस्टर के मानिंद नामों से अटे पड़े अखबार
 खबरें ढूँढना मुश्किलभरा काम था
चार-चार कॉलम की चौरी-चकारी,
ह्त्या और बलात्कार के बीच
कब तक साँसे लेता आखिर 
एकलौते कॉलम में ढेर
साहित्य,कला और संवेदनाओं का आलम 
छपता था पहाड़ सा किला तक
 महीने भर में एकाध बार कहीं 
पन्नों में आता था नज़र 
किले का कोई हिस्सा 
वजूद ही क्या उनका 
जो छपना चाहते है मगर कैसे 
जो हज़ूरिए भी न बन पाए
नौकरशाहों और साहबजादों के 
सांप सा मुड़ावदार  किला भी 
ब्याह की पंगत सा सीधा लगता था
 और जमा-जमाया अखबार भी उबड़-खाबड़ 
बेखबर थी दुनिया एक बड़ी खबर से कि
कम ही बचे थे पेड़ किले पर अब
और इधर
सिद्धांतवादी पत्रकार से जीव लुप्त प्राय लगने लगे 
जिसका रोना जो ही रोए
किसे है फुरसत दूजे की
मटमैली इमारतें किले के 
अधनंगे पहाड़ों पर 
खुद ही रोती थी एक ओर
दूजी ओर खबरों के चौलों से खफा 
कागज़ बिलखता था आकर मेरे हाथों में 

(ये रचना चित्तौडगढ के किले को अपने घर से सुबह सवेरे निहारने की आदतवस मन में उपजे विचारों पर आधारित है )  
Share this article :

1 टिप्पणी:

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template