आयोजन आमंत्रण:-कुम्भा संगीत समारोह-2011,उदयपुर - अपनी माटी

हिंदी की प्रसिद्द साहित्यिक ई-पत्रिका ('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

आयोजन आमंत्रण:-कुम्भा संगीत समारोह-2011,उदयपुर


उदयपुर
हरिजी 
दक्षिणी राजस्थान में उदयपुर एक ऐसा स्थान है जहां दो प्रमुख संगीत समारोह लोकप्रिय हैं ,एक पंडित चतुर लाल जी की याद में दिसंबर के अंत में होता है वहीं दूजा कुम्भा संगीत समारोह है.एक जानकारी के अनुसार देश का पहला दुर्लभ व अद्भुत शास्त्रीय संगीत संग्रहालय उदयपुर में महाराणा कुंभा संगीत परिषद की ओर से बनाया जाएगा। इसमें शास्त्रीय संगीत की उत्पत्ति से वर्तमान युग तक की कहानी बयां की जाएगी। शास्त्रीय संगीत के जाने-माने हस्ताक्षरों व इसकी सभी विधाओं से रू-ब-रू कराया जाएगा। शास्त्रीय संगीत का दूसरे संगीत के विकास में योगदान और उसके महत्व, वाद्य यंत्रों के बारे में भी बताया जाएगा। म्यूजियम के साथ ही जयपुर के बिडला ऑडिटोरियम की तर्ज पर ऑडिटोरियम बनाया जाएगा। फिलहाल संग्रहालय व ऑडिटोरियम की कार्य योजना तैयार की जा रही है। जल्द ही इसकी विस्तृत रिपोर्ट राज्य व केन्द्र सरकार को भेजी जाएगी।

जाकिर साहेब 
शास्त्रीय संगीत विश्वविद्यालय की भी योजना: परिषद की शास्त्रीय संगीत विश्वविद्यालय खोलने की भी योजना है। इस पर केन्द्र व राज्य सरकार से बात चल रही है। यह प्रयास युवाओं की शास्त्रीय संगीत में रूचि बढ़ाने व इसमें कॅरियर बनाने के लिए मददगार साबित होगा। अभी परिषद बड़ी-बड़ी योजनाओं में काम कर रही है जिसमें म्यूजियम, ऑडिटोरियम व संगीत विवि शामिल हैं। अगले वर्ष परिषद अपना स्वर्ण जयंती वर्ष भी मनाएगी।

महाराणा कुंभा संगीत परिषद की ओर से सुखाडिया रंगमंच पर 18 से 20 फरवरी तक 49वें महाराणा कुंभा संगीत समारोह का आयोजन किया जाएगा। समारोह के लिए तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। सरदारपुरा स्थित कुंभा परिषद की सजावट का काम शुरू कर दिया गया है। इसमें दीवारों पर संगीत वाद्य यंत्रों के पारम्परिक रेखाचित्र उकेरने का काम किया जा रहा है।



भजन सोपोरी जी 
कार्यक्रम के पहले दिन संतूर वादक पं.भजन सोपोरी और बांसुरी वादक हरिप्रसाद चौरसिया मधुर तान छेड़ेंगे। दूसरे दिन राजन-साजन मिश्रा की जुगलबंदी होगी और नृत्यांगना डॉ. क्षितिजा बर्वे भरतनाट्यम की प्रस्तुति आकर्षण का केन्द्र होगी। तीसरे व अंतिम दिन उस्ताद जाकिर हुसैन तबले की थाप से सभी को लुभाएंगे। इससे पूर्व उस्ताद जाकिर हुसैन इसी कार्यक्रम में वर्ष 1983 में आए थे।अगले वर्ष 2012 में महाराणा कुंभा संगीत परिषद की स्थापना को 50 वर्ष पूरे हो जाएंगे। स्वर्ण जयंती के अवसर पर राज्य व भारत सरकार के सहयोग से 5 दिवसीय कार्यक्रम के तहत संगीत व नृत्य उत्सव राजस्थान के बाहर तीन स्थानों पर होगा।

डॉ.यशवंत कोठारी, मानद सचिव, महाराणा कुंभा परिषद


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here