बनास पत्रिका का दूसरा अंक - अपनी माटी ई-पत्रिका

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

बनास पत्रिका का दूसरा अंक

गल्पेतर गल्प का ठाठ काशी का अस्सी पर विशेषांक
रचना प्रक्रिया और अंतरंगकाशीनाथ सिंह
  • राजकमल चौधरी, धूमिल, राजेन्द्र यादव, भीष्म साहनी, कमला प्रसाद, मूलचन्द गौतम, दिनेश कुशवाह,उदय प्रकाश और स्वयं प्रकाश का काशीनाथ सिंह से पत्राचार।
  • प्रतिभा कटियार, रामकली सर्राफ और पल्लव के साक्षात्कार।
  • बहस में नामवर सिंह, विश्वनाथ त्रिपाठी,राजेन्द्र यादव, नवलकिशोर, मधुरेश, नन्दकिशोर नवल,जीवन सिंह और सुवास कुमार।
  • एक दर्जन युवा आलोचकों द्वारा काशी का अस्सी का मूल्यांकन।
  • रमाकांत श्रीवास्तव, श्रीवल्लभ शुक्ल और वरुण ग्रोवर के संस्मरण।
  • उषा गांगुली, शशिकला त्रिपाठी, अरुण पाण्डेय और मलय पानेरी द्वारा काशी का अस्सी के मंचन पर चर्चा।
  • इनके अलावा और भी बहुत कुछ तीन सौ पृष्ठों के विशेषांक में।
प्रति हेतु सम्पर्क :
डॉ.पल्लव
हिंदी विभाग ,हिन्दू कॉलेज,दिल्ली
8800107067मोबाइल
pallavkidak@gmail.com
डाक द्वारा मंगवाने पर सहयोग राशि – 100 रुपये मात्र।
चार अंकों की सहयोग राशि – 200 रुपये।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here