Latest Article :
Home » , , » कविता:-अरुण चन्द्र रॉय.नई दिल्ली

कविता:-अरुण चन्द्र रॉय.नई दिल्ली

Written By ''अपनी माटी'' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल on शनिवार, जनवरी 08, 2011 | शनिवार, जनवरी 08, 2011

अरुण चन्द्र रॉय
http://www.aruncroy.blogspot.com/
संक्रमित समय है यह 
समय है यह
मोटिवेशन का
प्रेरित होने का
अपना आदर्श बनाने का

समय है यह
महाभारत में युद्ध से पूर्व
अर्जुन का कृष्ण के चरणों में झुके चित्र को
अपने बैठक कक्ष में  लगाने का
सात दिनों में सफलता, 
आसमान को छूने जैसे मोटिवेशनल पुस्तकों के बीच
सजिल्द गीता को किताब की सेप में सजा कर रखने का .

समय है यह
बच्चों को प्रथम डेटिंग पर जाने से पूर्व
जरुरी 'टिप्स' देने का
एक इअर फोन के दो स्पीकरों से
माँ और बेटी को एक साथ
'शीला की जवानी' वाला मस्त गीत सुनने का
सुनहरे परदे पर रीटेक के बाद रीटेक देकर
उत्पन्न किये गए दृश्यों और संवेदनाओं से
प्रेरित होने का
उन छद्म किरदारों को अपना आदर्श बनाने का
अपने स्कूली सर्टिफिकेट के बीच
रखने का उनके ऑटोग्राफ

समय है यह
आँखें बंद कर
शुतुरमुर्ग हो जाने का
या फिर चील, बाज़ की तरह
विलुप्त हो जाने का

संक्रमित समय है यह.

Share this article :

12 टिप्‍पणियां:

  1. लाजवाब!!!
    अरुण जी आपको मैं यूं ही नहीं, ब्लॉगजगत का सबसे ज़्यादा ऊर्जावान, समर्थ, और संभावित कवि कहता हूं। आखिर आपकी रचनाओं में नागार्जुन के सानिध्य,और उनका आशीष और आपकी खुद की गहन और सूक्ष्म दृष्टि का प्रतिफलन तो है ही, उस सबके ऊपर विषय को अलग ढंग से देखने का जज़्बा और समाज की विषमताओं को उजागर करने का प्रयास भी परिलक्षित होता है, रहता है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. • आपने इस रचना में जो परिवर्तन की बात की है वह सिर्फ़ रस्मी जोश तक महदूद नहीं है। ये सब कुछ आपकी रचना में बुनियादी सवालों से टकराते हुए है। आपकी लेखनी से जो निकलता है वह दिल और दिमाग के बीच खींचतान पैदा करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. I am fully agreed with manoj Bhaiya. Arun Ji has a quality to see our soceity with special eyes

    उत्तर देंहटाएं
  4. समाज में उपज रही विषमताओं को ऊजागर करती रचना. आश्चर्य की बात यह है की आज ये कुसंस्कार समाज में हेय नहीं माने जा रहे हैं. समय के संक्रमण के भयावह परिणामों से आँखें मूंदे हुए इसे आधुनिकता मान ग्रहण कर रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. अरुण भाई की कविता को पढ़ने वाले और उसे दिशा देने वाले कम नहीं हैं. ये बात दिखाती है कि आपकी रचना को कितने लोग पढ़ते हैं. मैं भी उन्हें लगातार पढ़ता रहा हूँ. उनकी कलम से निकली लगभग कवितायेँ जनपक्षधरता के आस-पास है. जो समय की मांग है. अभी उदयपुर में हुए एक आयोजन में डॉ.पल्लव ने भी बताया कि हमारा लेखन तटस्थ नहीं होना चाहिए. कहीं न कहीं जुकाव ज़रूरी हो.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मनोज जी ने सब कह दिया उसे ही मेरा मत समझें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सही बात है..मनोज भैया ने हम सब के मन की बात कह दी है...अब अलग से क्या कहूँ...उनके शब्दों को हमारे भी माने जायं..

    सार्थक सटीक कटाक्ष...
    बहुत ही लाजवाब रचना...

    जो बात हम इतने लम्बे लम्बे गद्यों में कहना चाहते हैं,उसे आप और भी प्रभावशाली ढंग से इतने लघु कलेवर में कह जाते हैं..इसीको तो प्रतिभा कहते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  8. समाज का यही चेहरा दिखाई पड़ रहा है आजकल.

    उत्तर देंहटाएं
  9. transition ke baare men jo kuch kah diya aapne itni aasani aur aam sanketon ko utha kar wah kahna mushkil tha...bahut heee adbhut tareeke samay kee beemari ko saamne laati hui kavita hai yah...

    saadar

    उत्तर देंहटाएं
  10. NIRMAL GUPT JEE NE KAHA :

    "अरुण जी शानदार कविता है .बस प्रारंभ जल्दबाजी वाला है ....फिर भी बेमिसाल कविता है मित्र....यह वह कविता जो मन के भीतर उच्चारित होने लगती है .....इस पर कभी फुर्सत से काम करना...ऐसी कविताएँ बार -बार नहीं लिखी जाती..."

    उत्तर देंहटाएं

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template