Latest Article :
Home » » राजस्थान साहित्य अकादमी सम्मानों की घोषणा

राजस्थान साहित्य अकादमी सम्मानों की घोषणा

Written By ''अपनी माटी'' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल on गुरुवार, मार्च 31, 2011 | गुरुवार, मार्च 31, 2011

उदयपुर.
सम्मानित होने वालों
में अपनी माटी की
लेखक साथी
मनीषा दी
राजस्थान साहित्य अकादमी का सर्वोच्च मीरा पुरस्कार इस बार उदयपुर के डॉ. ज्योतिपुंज को प्रदान किया जाएगा। पुरस्कार स्वरूप इन्हें 31 हजार रुपए प्रदान किए जाएंगे।उन्हें यह पुरस्कार उनकी लिखी काव्य कृति ‘बोलो मनु ! बोलते क्यों नहीं ’ के लिए दिया जा रहा है। इसके अलावा कविता विधा में चन्द्रदेव शर्मा पुरस्कार भी स्थानीय गुरुनानक कन्या महाविद्यालय की पल्लवी शर्मा को प्रदान किया जाएगा।इन्हें पुरस्कार स्वरूप 2500 रुपए प्रदान किए जाएंगे। साहित्य अकादमी के वार्षिक पुरस्कारों की घोषणा बुधवार को यहां अकादमी अध्यक्ष उषा शर्मा ने की।


कविता विधा : ‘ सुधीन्द्र पुरस्कार’ जयपुर के गोविन्द माथुर को उनकी काव्य कृति ‘ बची हुई हंसी ’ परकथा -उपन्यास विधा : ‘ डॉ. रांगेय राघव पुरस्कार’ जयपुर की मनीषा कुलश्रेष्ठ को उनकी कृति ‘ कठपुतलियां ’ परनाटक विधा : ‘ देवीलाल सामर पुरस्कार ’ हरीश बी.शर्मा को उनकी कृति ‘ गोपीचंद की नाव और देवता ’ परआलोचना विधा : ‘देवराज उपाध्याय पुरस्कार ’ जोधपुर के प्रो. मोहनकृष्ण बोहरा को उनकी कृति ‘ एलियट और हिन्दी साहित्य चिंतन ’विविध विधाएं : ‘कन्हैयालाल सहल पुरस्कार ’ चित्तौड़गढ़ में बेगूं के नंदकिशोर चतुर्वेदी को उनकी यात्रा संस्मरण की कृति ‘ दिव्य देवालयों का देश दक्षिण भारत ’ पर

(ये सभी पुरस्कार 15-15 हजार रुपए के हैं।)
‘सुमनेश जोशी’ पुरस्कार : कोटा के ओम नागर को उनकी कृति ‘ देखना एक दिन ’ पर बाल साहित्य : ‘ शम्भूदयाल सक्सेना ’ पुरस्कार भीलवाड़ा के डॉ. शम्भूनाथ तिवारी को ‘ धरती पर चांद ’ पर

(ये दोनों पुरस्कार 7500-7500 रुपए के हैं।)

इनकी रचनाएं भी पुरस्कृत : अकादमी के नवोदित प्रतिभा पुरस्कार योजना में इस वर्ष का ‘डॉ. सुधा गुप्ता पुरस्कार’ (कहानी विधा) का अनिता गोदरा, सोनादेवी सेठिया कन्या महाविद्यालय, सुजानगढ़ को, ‘ चन्द्रदेव शर्मा पुरस्कार’ (कहानी विधा) का रीना जाटोलिया, जैन कन्या महाविद्यालय, बीकानेर को और ‘ चन्द्रदेव शर्मा पुरस्कार’ (निबंध विधा) का वर्षा प्रजापत, सोनादेवी सेठिया कन्या महाविद्यालय, सुजानगढ़ को घोषित किया गया हैं।ये सभी पुरस्कार 2500-=2500 रुपए के हैं। विद्यालय स्तरीय ‘परदेशी पुरस्कार’ (कहानी विधा) का 1500 रुपए का अर्णिमा माथुर, सर पद्मपत सिंघानिया स्कूल कोटा, को घोषित किया गया हैं।
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template