वेदव्यास के दो दुर्लभ गीत - अपनी माटी

हिंदी की प्रसिद्द साहित्यिक ई-पत्रिका ('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

वेदव्यास के दो दुर्लभ गीत

 राजस्थान साहित्य अकादमी,उदयपुर एवम राजस्थानी भाषा साहित्य एवम संस्कृति अकादमी,बीकानेर  के पूर्व अध्यक्ष ,कवि,गीतकार,आलोचक एवम स्तम्भकार वेदव्यास जी के दो दुर्लभ गीत मुझे "अणिमा प्रकाशन ,जयपुर की और से 1970  में प्रकाशित " राजस्थान :प्रतिनिधि कवि " संग्रह से प्राप्त हुए हैं 

राजस्थानी नव-गीत

तावडि़यै      रा    फ़ुलडा       दीसै  ऊजळा
पण बां पर लिखियोडी़ भाषा सांझ री ॥

                    कद तांईं   नापांला इण आकास नै
                    ढाबां    कींकर      छीजंते विश्वास नै
                    बांधां    कींकर नैणां री रंग डोरियां
                    चितरावां कींकर सुपनां री छोरियां

अळगै सूं दीसै आडावळ मोवता
पण बातां रा ब्याळू कोनी धापणां ।

                      कितरा दिन आंख्यां मां आखर ऊगसी
                       बिना ठिकाणै         कागद कैयां पूगसी
                       बोली फ़िरियां सूं        पलटै नीं भावना
                       राख सकै कितरा दिन      कोई पावणा
 सैंद-पिचाण         काढण वाळा मोकळा
 पण वां में सूं कुण-कुण सागै चालसी ।

                           घणां-घणां रा छपर    चूवै मेव सूं
                          ऐकै सागै मांगरिया        सै देव सूं
                          सगळा चावै लहरया पाळै चालणों
                          जूना-फ़ाट्या        बेवारां नै पाळणो
चौघडि़यै मां बंद करो ना      जूण नै
दुनिया री अरथावण पलटी जाय री ।

हिन्दी नव-गीत

सांवली उजालों से     तैरते सवाल
छूने से पहले ही सुमन हुए लाल ।

                   किसमिसी हवाओं के
                    खुले   -    खुले      छोर
                    सपनों में     बतियाता
                    परिचय का          शोर
दरपनी दिशाओं से घूमते खयाल
कहने से पहले ही शब्द हुए लाल ।

                    चिरमाई लताओं के
                    रचे   -      रचे     हाथ
                   क्यारी में अंगियाआ
                   केसर     का         साथ
लरजती कमानों से फ़ैंकते गुलाल
चलने से पहले ही चरण हुए लाल ।

                       झिलमिली सितारों के
                        लिखे   -      लिखे    रूप
                         छवियों में    रसियाता
                          मणियों        का     धूप
गुनगुनी बहावों के छितकते कमल
उड़ने से पहले ही पंख हुए लाल ।

संकलन सहयोग 
ओम पुरोहित 'कागद' 
कवि और संस्कृतिकर्मी 

1 टिप्पणी:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (10-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here