Latest Article :
Home » , » 'कथादेश' मीडिया विशेषांक बाज़ार में और लोकार्पण व विचार गोष्ठी सात को

'कथादेश' मीडिया विशेषांक बाज़ार में और लोकार्पण व विचार गोष्ठी सात को

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on मंगलवार, अप्रैल 05, 2011 | मंगलवार, अप्रैल 05, 2011


पाठक साथियों हमारे देश की बहुत प्रचलित हिंदी पत्रिका 'कथादेश' के मीडिया विशेषांक हमेशा से ही बहुत चर्चित रहे हैं. इस बार फिर एक विशेषांक बाज़ार में उपलब्ध हो चुका है.इस अंक के लोकार्पण और इससे जुड़े एक बड़े मुद्दे पर विचार गोष्ठी का आयोजन जे.एन.यूं. के 212, कमेटी रूम, स्कूल ऑफ लैंग्वेज में किया जा रहा है.हमारे साथी श्री गंगा गंगा सहाय मीणा और अविनाश दास जी ने बताया कि आप भी अगर संभव हो सके तो इस आयोजन में शामिल हो सकते हैं.

इस अंक के हित एक आलेख विनीत बाबू का भी छापा है वे इस बात को लेकर फेसबुक पर कहते हैं कि '' कथादेश के मीडिया वार्षिकी( अप्रैल 2011) में मेरा एक लेख प्रकाशित हुआ है- सिनेमा का नया खलनायक,मौका मिले तो पढ़िएगा और बाकी लेखकों के लिए ये अंक खरीदकर रख लीजिएगा। इस लेख में मैंने ये बताने की कोशिश की है कि अब हिन्दी सिनेमा को खलनायक ते तौर पर अमरीश पुरी,प्राण या परेश रावल की जरुरत नहीं रह गयी,खलनायक का काम टीवी चैनल्स कर दे रहे हैं।''


साहित्यिक पत्रिकाओं की बिक्री अभी इतनी नहीं होती है और वे हर शहर में सुलभ भी नहीं हैं, फिर भी अगर यह अंक आप कुछ कोशिश करके प्राप्त कर लेंगे तो फायदे में रहेंगे.इस बात पर जोर देते हुए हमारे मोहल्ला लाइव के संचालक अविनास दस फेसबुक पर लिखते हैं  कि ''कथादेश की मीडिया वार्षिकी प्रकाशित हो चुकी है। इसका संपादन यों तो दिलीप मंडल ने किया है, पर संपादक के तौर पर उनके साथ मेरा नाम भी छपा है। राडिया और विकिलीक् के समय में साफ हुए मीडियाई परिदृश् की कई तरह से विवेचना इस अंक में मौजूद है। इसकी कीमत साठ रुपये है। आप अपने नजदीकी बुक स्टॉल से इसे खरीदने की कोशिश करें। शुक्रिया और सलाम''

दिलीप मंडल जी और साथियों का बनाया हुआ आयोजन का फेसबूकी निमंत्रण यों का यों ही यहाँ चस्पा कर रहे हैं.
विकिलीक् के दौर में मीडिया - संभावनाएं और चुनौतियां
 वक्ता
  • प्रो. आनंद कुमार, वरिष्ठ समाजशास्त्री, JNU
  • प्रो. श्यौराज सिंह बेचैन, चिंतक लेखक, DU
  • उदय प्रकाशवरिष्ठ साहित्यकार
  • मुकेश कुमार, मीडियाकर्मी  विश्लेषक
  • डा. आनंद प्रधान, मीडिया विशेषज्ञ, IIMC

 उपस्थिति
  • हरिनारायण, संपादक- कथादेश
  • दिलीप मंडल, अतिथि संपादक (मीडिया विशेषांक-कथादेश)
  • अविनाश, अतिथि संपादक (मीडिया विशेषांक-कथादेश) Mohallalive.com

समय- शाम 5 बजे
दिनांक- 7 अप्रैल, 2011
स्थान- 212, कमेटी रूम, स्कूल ऑफ लैंग्वेजेज, जेएनयू
आप सादर आमंत्रित हैं.
Share this article :

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत शुक्रिया हमारे कार्यक्रम की जानकारी शेयर करने के लिए. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. माणिक भाई, आपकी बतकही का अंदाज लाजवाब है। युवाओं की सक्रिय लेखकीय भागीदारी से अंक वाकई बहुत शानदार बन पड़ा है। एक लोकतांत्रिक अंक जिसमें आपको सभी की बातें, सभी के मत मिलेंगे। साझे के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template