अन्ना की आंधी लखनऊ में नुक्कड़ सभाएं शुरू - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

अन्ना की आंधी लखनऊ में नुक्कड़ सभाएं शुरू

लखनऊ 8 अप्रैल। 
समाजसेवा,साहित्य एवं संस्कृति को समर्पित जनजागरण मीडिया मंच के सदस्यों द्वारा राजधानी लखनऊ के विभिन्न क्षेत्रों में भ्रष्टाचार के खिलाफ सुप्रसिद्ध समाज सेवी अन्ना हजारे द्वारा गांधीवादी तरीके से शुरू आमरण अनशन के समर्थन में आज इन्द्रानगर सेक्टर आठ मे मंच के सदस्यों ने जनजागरण मार्च किया दरवाजे - दरवाजे पहुंच ‘सबके प्यारे अन्ना हजारे’ का नारा देते हुये मंज के सदस्यों ने कल ष्षुषमा अस्पताल के सामने ष्षन्तिपूर्ण धरना देने का निर्णय लिया गया सदस्यों ने  भ्रष्टाचार के खिलाफ आमआवाम को आगे आने और अन्ना के समर्थन एकजुट होने की अपील की । भ्रष्टाचार के खिलाफ ‘जागो भारत जागो’ नामक पुस्तक लिखने वाले मंच के महासचिव रिजवान चंचल ने जनजागरण मार्च के दौरान फूलबाग नजरबाग लालबाग में की गई नुक्कड़ बैठको को सम्बोणित करते हुये कहा कि वे कौन लोग हैं जिनको भ्रष्टाचार के मुद्दा बन जाने से अपने अस्तित्व पर संकट खड़ा होता नजर आ रहा है ? 

दरअसल, आजादी के बाद से ही शासन व्यवस्था को संभालने वाले अंग्रेंजों के हिन्दुस्तानी उत्तराधिकारियों ने भारत की जनता को शासक और शासित की मानसिकता से ही देखा और सत्ता का इस्तेमाल अपनी विपन्नता को सम्पन्नता में बदलने के लिए एक हथियार के रूप में किया। इन राजनेताओं ने स्वाधीनता सैनानियों के संघर्षो और बलिदानों के साथ ना केवल विश्वासघात किया अपितु भारत की उस बेबस जनता के विश्वास को भी छला जो इनसे आत्मगौरव और स्वाभिमान से युक्त भारत की संकल्पना सजाए बैठे थे। चंचल ने कहा कि यह भ्रष्टाचार ही तो है कि आजादी के बाद से खरबों रूपये खर्च होने के बावजूद भारत के न जाने कितने गांव अपनी किस्मत और बदहाली पर आज तक आंसू बहा रहे है पेयजल, सड़क, विद्यालय और चिकित्सालय जैसी आधारभूत सुविधाओं तक से अभी तक  वंचित हैं। देश के विकास में अपना श्रम पसीने की तरह बहा देने वाले मजदूर और किसान बी पी एल कार्ड में नाम लिखवाने के लिए संघर्षरत हैं। 

जनजागरण मीडिया मंच के अध्यक्ष हरिपाल सिंह ने इन्द्रानगर मे राजेश शर्मा  द्वारा आयोजित नुक्कड़ सभा में लोगों को सम्बोधित करते हुये कहा कि आज हालात यह हैं कि ये राजनेता सत्ता की प्राप्ति के लिए देश के मतदाताओं को ही खरीदने का दुस्साहस करने लगे हैं। अभी जिन पांच राज्यों में विधानसभा के चुनाव हो रहे हैं, वहां के राजनीतिक दल शराब से लेकर टी वी फ्रिज तक देकर वोटों को खरीदने का ना केवल दुस्साहस कर रहे हैं अपितु अपने इस अपराध में एक हद तक वे सफल भी हो रहे हैं।  प्रशासनिक एवं राजनीतिक व्यवस्था भ्रष्टाचार से सराबोर है और भ्रष्टाचार के विरूद्ध आम आदमी में ना केवल गहरी पीड़ा है बल्कि आमआदमी  आहत भी है।  विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के लिए इससे ज्यादा शर्मनाक तथ्य और क्या हो सकता है। एक अन्य अंतर्राष्ट्रीय संस्थान इन्टरनेशनल वाच डाग ने अपने अध्ययन में यह पाया है कि 1948 से 2008 तक के 60 सालों में 462 बिलीयन डालर यानी 20 लाख करोड़ से ज्यादा रूपये गैर कानूनी तरीके से भारत के बाहर ले जाए गए। यह राशि भारत के सकल घरेलु उत्पाद का 40 प्रतिशत है। और जिस 2 जी घोटाले को लेकर उच्चतम न्यायालय ने सरकार की नकेल कस रखी है, उससे यह राशि 12 गुना अधिक है। जनजागरण मीडिया मंच द्वारा अन्ना के समर्थन में चलाये जा रहे जनजागरण के इस अभियान में मंच के सदस्यों व पदाधिकारियों के अलावा वरिष्ठ समाजसेवी लोक सेनानी कल्याण परिषद के प्रदेश महासचिव चतुर्भुज त्रिपाठी  वरिष्ठ समाजसेवी मीना खान,पत्रकार आर.के पाण्डेय,हामिद हुसैन , तारिक खान, मो0 जकी, मुशीर ,राजेश शर्मा ,अमित सिंह ,शफीक  खान सहित कई समाजसेवी मौजूद रहे। 
सादर!

आर के पाण्डेय
प्रवक्ता-जन जागरण मीडिया मंच
उ0 प्र0   मोबा. 09450449753 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here