'खामोश मुहूर्त में' की लोकार्पण रपट - अपनी माटी ई-पत्रिका

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

'खामोश मुहूर्त में' की लोकार्पण रपट

समकालीन मलयालम कवियों में चर्चित कवि ए. अयप्पन की चुनिंदा कविताओं का संतोष अलेक्स द्वारा किया गया हिंदी अनुवाद खामोश मुहूर्त में का लोकार्पण मद्रास विश्विदयालय के मलयालम विभाग में अंग्रेज़ी लेखक श्रीकुमार वर्मा द्वारा किया गया। .वर्मा जी ने अनुवाद की अनिवार्यता पर बल दिया । उन्होंने कहा कि अनुवादक साहित्यिक सीमाओं को तोडकर सेतू का काम करते हैं , किताब के प्रकाशन पर उन्होंने संतोष अलेक्स को बधाई दी । कार्यक्रम की अध्यक्षता विभागाध्यक्ष डॉ राजेंद्र बाबू जी ने की । हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ चिटटी अननापूर्ण जी एवं कवि वासुदेवन पनंपल्लि ने किताब की समीक्षा की। कार्यक्रम में मात्रभूमि दैनिक के व्यूरो चीफ श्री के ए जोनी जी  और मलयालम मनोरामा के पत्रकार श्री विनोद गोपी ने बधाई भाषण दिए । मलयालम कवि एवं संतोष अलेक्स ने कविताओं के अनुवाद के दोरान हुए अनुभव को बांटा ।      किताब का प्रकाशन दिल्ली के युक्ति प्रकाशन ,ए 2 , न्यू इंडिया अपार्टमेंट , प्लाट सं 6 , सेक्टर .9 , रोहिणी , दिल्ली , 110 085 से हुंई है 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here