Latest Article :

"लेखक का काम दि‍ल बहलाना नहीं है"

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on मंगलवार, मई 24, 2011 | मंगलवार, मई 24, 2011

लेखक का काम दि बहलाना नहीं है पत्रिका 'अभिव्यक्ति' के अंक में हिंदी के सबसे बडे लेखक और आलोचक
चन्द्रबली सिंह का एक शानदार साक्षात्कार छपा था। यह साक्षात्कार शिवराम और शैलेन्द्र चौहान  ने लिया   दुर्योग से शिवराम भी अब इस दुनिया में नहीं हैं।  चन्द्रबली सिंह का व्यक्तित्व और कृतित् हिंदी लेखकों से छिपा नहीं है। वे हिंदी के शिखरपुरूष स्व.रामविलास शर्मा से लेकर जीवि शिखर पुरूष नामवर सिंह के ज्ञानगुरू हैं। हिंदी की वैज्ञानि आलोचना के निर्माण में उनका बहुमूल् योगदान रहा है। उनकी मेधा के सामने रामविलास शर्मा से लेकर नामवर सिंह तक सभी नतमस्तक होते रहे हैं। चन्द्रबली जी हिंदी के ज्ञानगुरू हैं। हिंदी के लेखक जब भी गंभीर संकट में फंसे हैं उनके पास गए हैं और उनके द्वारा दिशा निर्देश पाते रहे हैं। चन्द्रबली सिंह प्रगतिशील लेखक संघ से लेकर जनवादी लेखक संघ तक सभी में शिखर नेतृत्व का हिस्सा रहे हैं। पिछले पैंसठ साल से भी ज्यादा समय से प्रगतिशील आलोचना को दिशा देते रहे हैं। इन दिनों चन्द्रबली सिंह अस्वस्थ हैं और बनारस में अपने घर पर ही बिस्तर पर पडे आराम कर रहे हैं।


अपने साक्षात्कार में चन्द्रबली सिंह ने जो कहा है वह हिंदी के लेखक संगठनों की उदासीनता और बेगानेपन के खिलाफ तल्ख़ टिप्पणी है। चन्द्रबली जी ने लेखक संगठनों के बारे में कहा है '' लेखक संगठन जो काम कर रहे हैं,बहुत संतोषजनक तो नहीं है,उनका अस्तित्व औपचारि हो गया है। ''  हिंदी लेखक संगठनों के बारे में यह टिप्पणी ऐसे समय में आयी है जब हिंदी के लेखक सबसे ज्यादा असहाय महसूस कर रहे हैं। लेखक संगठनों की निष्क्रियताविचारधारात्मक उदासीनता और स्थानीय गुटबंदियां चरमोत्कर्ष पर हैं। अब लेखक संगठन प्रतीकात्मक रूप में काम कर रहे हैं। लेखक संगठन प्रतीक क्यों बनकर रह गए हैं ? औपचारि संगठन बनकर क्यों रह गए हैं ,उनके अंदर कोई वैचारि और सर्जनात्मक सरगर्मी नजर क्यों नहीं आती ? हिन्दी
में तीन बडे लेखक संगठन हैं,प्रगतिशील लेखक संगठन,जनवादी लेखक संगठन,जनवादी सांस्कृति मोर्चा। इनके अलावा और अनेक स्थानीय स्तर के लेखक संगठन हैं। लेकि तीन बडे संगठनों में किसी भी किस्म का समन्वय नहीं है। इन संगठनों की कार्यप्रणली में इनके साथ जुडे राजनीति दलों की राजनीति संकीर्णताएं घुस आयी हैं। इस प्रसंग में चन्द्रबली सिंह ने कहा '' कुछ को ऑर्डिनेशन राजनीति तौर पर हुआ है,पर उनकी राजनीति से जुड़े जो सांस्कृति संगठन हैं उनमें कोई समन्वय नहीं हुआ है। जहॉं तक कि साहित्यि मतभेदों का सवाल है वह तो हर बौद्धि संगठन में होना चाहिए।... लेखकों का संगठन राजनैति संगठन की तर्ज पर नहीं चल सकता।'' आगे बड़ी ही प्रासंगि दिक्कत की ओर ध्यान खींचते हुए चन्द्रबली जी
ने कहा '' राजनैति पार्टी में तो डेमोक्रेटि सेन्ट्रलिज् के नाम पर जो तय हो गया,वह हो गया। पर लेखक संगठनों में तो यह नहीं हो सकता कि‍ फतवा दे दें कि जो ऊपर तय हो गया तो हो गया। दिक्कत तो है। सम्प्रति
कोई ऐसी संस्था नहीं है कि समन्वय की ओर बढ़ सके। हम तो यह महसूस करते हैं कि इन संगठनों में जो नेतृत् है वह नेतृत् भी जो विचार-विमर्श करना चाहि,वह नहीं करता है।पार्टी को इतनी फुर्सत नहीं है कि इन समस्याओं की ओर ध्यान दें। चन्द्रबली सिंह ने एक रहस्योद्घाटन किया है कि लेखक संगठनों की समन्वय समिति बने यह प्रस्ताव नामवर सिंह ने दिया था ,चन्द्रबली जी भी उससे संभवत: सहमत थे। लेकि पता नहीं क्यों यह प्रस्ताव अमल में अभी तक नहीं पाया है। चन्द्रबलीजी ने कहा है, '' मैंने समन्वय समिति का,नामवर ने जो प्रस्ताव रखा था कि यदि एक न हों तो समन्वय समिति हो जाए।पार्टियॉं जो हैं उनमें तो समन्वय समिति बनी ही है पर लेखक संगठन व्यवहार में यह स्वीकार नहीं करते हैं कि वे पार्टियों से जुडे हैं। समन्वय की प्रक्रिया शुरू करने के लि जब तक दबाव नहीं बनाया जाएगा तब तक यह सम्भव नहीं है। बिना दबाव के यह हो नहीं पाएगा।'' पुराने जमाने और आज के जमाने के लेखक संगठनों की
बहसों की तुलना करते हुए चन्द्रबली जी ने कहा '' ऐसा लगता नहीं है कि जैसी पहले मोर्चाबंदी हुई थी एक जमाने में,वैसी अब होती हो। वैसी अब दिखाई नहीं देती।वैसा वैचारि संघर्ष दिखाई नहीं देता। 

गड्ड-मड्ड की स्थिति है। खास तौर से जो पत्र- पत्रिकाएँ निकलती हैं उनमें उस तरह की स्पष्टता और मोर्चाबंदी नजर नहीं आती। कभी -कभी ऐसा लगता है कि‍ लेखक मंच पर भी व्यक्तियों के साथ आता है। उसके सारे गुण और दोष इन संगठनों में वह ग्रहण करता है। लीडरशि के नाम पर लेखकों में एक सैक्टेरियन दृष्टिकोण पनपता है।पतनशील प्रवृत्तियों से कोई संघर्ष नहीं है। ये प्रवृत्तियॉं मौजूद रहती हैं।'' चन्द्रबली सिंह ने एक बडी ही मार्के की बात कही है। '' मैं तो यहाँ जलेस से कहता हूँ ,जिसमें ज्यादातर कवि ही हैं। वे कविता सुना जाते हैं। उनसे कहता हूँ कि अपनी कविताऍं,जनता के बीच में जाओ,उन्हें सुनाओ।फि देखो क्या प्रतिक्रिया होती है। जनता समझती है या नहीं।पाब्लो नेरूदा जैसा कवि‍ जनता के बीच जाकर कविता सुनाता था। जनता को उसकी कविताऍं याद हैं। जनता को जितना मूर्ख हम समझते हैं वह उतनी मूर्ख नहीं है। यदि वह तुलसी और कबीर को समझ सकती है तो तुम्हें भी तो समझ सकती है।बशर्ते उसकी भाषा में
भावों को व्यक् किया जाए।'' समीक्षा के वर्तमान मठाधीश प्रगतिशील लेखकों की उपेक्षा करते हैं। इस पर चन्द्रबली जी ने कहा '' कहते तो हैं.


अपने को प्रगतिशील और जनवादी पर कहीं कहीं कलावादियों का प्रभाव उन पर है। आज के शीर्षस् जो आलोचक हैं,नामवरसिंह ,उनके जो प्रतिमान हैं,वे सारे प्रतिमान लेते हैं,विजयनारायण देव साही से।'' चन्द्रबली जी ने बडी ही मार्के की एक अन् बात कही है '' लेखक अब डर गए हैं।'' लेखकों में यह डर कहां से आया ? प्रगतिशील लेखकों का वैचारि जुझारूपन कहॉं गायब हो गया,आज वे अपने सपनों और विचारों के लि तल्खी के साथ लिखते क्यों नहीं हैं ? लेखक अपने विचारों के प्रति जब तक जुझारू नहीं होगा तब तक स्थिति बदलने वाली नहीं है। लेखकों को अपना डर त्यागना होगा,अपने लेखन और व्यक्तित् को निहितस्वार्थों के दायरे के बाहर लाकर वैचारि संघर्ष करना होगा। बुद्धिजीवियों को दलीय विचारधारा के फ्रेम के बाहर निकलकर मानवाधिकार के परिप्रेक्ष् में अपने विचारधारात्मक सवालों को नए सिरे से खोलना होबा। हिंदी के बुद्धिजीवियों में एक तरु डर है तो दूसरी व्यवहारवाद भी गहरी जडें जमाए बैठा है। हम अपने लेखन से किसी को नाराज नहीं करना चाहते। लेखक के नाते हमें यह याद रखना होगा, कि लेखक का काम दि बहलाना नहीं है। लेखन की दि बहलाने वाली भूमिका में अगर हमारा लेखन चला जाता है तो जसने-अनजाने दरबारी सभ्यता और संस्कृति का गुलाम बनकर रह जाएगा। दिल बहलाने वाले साहित् में जीवन की गंध,दुख,दर्द और प्रतिवाद के स्वर व्यक् नहीं होते। दि बहलाने का काम लेखक का नहीं है। दि बहलाने के लि खिलौने बाजार में मिलते हैं। हम बाजार जाएं अपने लि दि बहलाने का सामान खरीद लाएं और घर बैठे आनंद लें। लेखक का काम आम लोगों को बेचैन करना और स्वयं भी बेचैन रहना,अपना डर निकालना साथ समाज का भी डर निकालना। लेखक किसी एक का नहीं होता वह सबका होता है कठोरता,निर्भीकता और ममता से भरा होता है।

ये जानकारी हमारे साथी शैलेन्द्र चौहान ने हमें भेजी है. जो मूलरूपेण ३४/२४२, सेक्टर -३, प्रतापनगर, जयपुर -३०२०३३ के हैं.और वर्तमान में जम्मू में हैं..

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
जनवादी लेखक संघ हिंदी के प्रसिद्ध मार्क्सवादी आलोचक चंद्रबली सिंह के आकस्मिक निधन परगहरा शोक व्यक्त करता है। वे दो दिन पहले ही अचानक बीमार हुए और वाराणसी के त्रिमूर्ति अस्पताल में आज उनकादेहावसान हो गया।चंद्रबली सिंह का जन्म 20 अप्रैल 1924 को गाजीपुर जिले के रानीपुर गांव में जो कि उनकी ननिहाल था हुआ था। उनकीप्रारंभिक शिक्षा वाराणसी में हुई और फिर बी एम (अंग्रेजी, 1944) इलाहाबाद विश्वविद्यालय से किया। उसके बाद वेबलवंत राजपूत कालेज आगरा में और बाद में वाराणसी के ही उदयप्रताप कालेज में अंग्रेजी के प्राध्यापक रहे, 1984 मेंसेवामुक्त हो कर लेखन और संगठनात्मक कार्य में सक्रिय भागीदारी करने लगे।

1982 में जनवादी लेखक संघ के स्थापना सम्मेलन में भैरव प्रसाद गुप्त अध्यक्ष निर्वाचित हुए थे और चंद्रबली सिंहमहासचिव। बाद में वे उसके अध्यक्ष हो गये थे।आलोचना की उनकी दो पुस्तकें, लोकदृष्टि और हिंदी साहित्य और आलोचना का जनपक्ष काफी सराही गयीं। वे वाराणसीसे प्रकाशित अखबार आज के रविवारीय संस्करण में साहित्यिक कालम में दस साल तक लेखन करते रहे, इसके अलावाहंस, पारिजात, नयी चेतना, नया पथ, स्वाधीनता आदि अपने समय की साहित्यिक पत्रिकाओं में लगातार लेखन करतेरहे। एक अनुवादक के रूप में भी उनके काम की बहुत सराहना हुई उनके द्वारा पाब्लो नेरूदा की कविताओं के अनुवाद काएक संग्रह साहित्य अकादमी ने प्रकाशित किया, नाजिम हिकमत की कविताओं का अनुवाद, हाथ शीर्षक से प्रकाशित हुआथा। वाल्ट व्हिटमैन और एमिली डिकिन्सन की चुनी हुई कविताओं के अनुवाद संचयन सीरीज में वाणी प्रकाशन ने छापे।इसके अलावा उन्होंने ब्रेख्त, मायकोव्स्की, आदि की हज़ारों पृष्ठों में फैली हुई कविताओं के हिंदी रूपांतर किये थे, दुर्भाग्य सेइनमें से अधिकांश अप्रकाशित हैं। इसके अलावा नागरी प्रचारिणीसभा के विश्वकोश की अंग्रेजी साहित्य से संबंधित सभीप्रविष्टियां चंद्रबली सिंह ने ही लिखी थीं।

वे युवा काल में ही कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य हो गये थे। पार्टी के विभाजन के बाद वे मार्क्सवादी पार्टी के साथ रहे औरजीवन भर अपनी प्रतिबद्धता से विचलित नहीं हुए। अपनी वैचारिक दृढ़ता और भारत के शोषित जनगण के सघर्षों के प्रतिअडिग लगाव के कारण वे हमारे प्रेरणा स्रोत थे, उनके देहावसान से जनवादी सांस्कृतिक आंदोलन को एक नुकसान जरूरहुआ है। हम उनके शोकसंतप्त परिवार और मित्रजनों के प्रति अपनी संवेदनाएं व्यक्त करते हैं।
नई दिल्ली से मुरली मनोहर प्रसाद सिह,
महासचिव,जनवादी लेखक संघ 
Share this article :

0 comments:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template