छायाचित्र:-ऐसा होता ही गोटिपुआ नृत्य - अपनी माटी ई-पत्रिका

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

छायाचित्र:-ऐसा होता ही गोटिपुआ नृत्य

सबसे गज़ब बात ये है कि ये सभी नर्तक लडके हैं न कि लड़किया.दूजी दीगर बात ये कि उड़ीसा की महारी प्रथा  और ओडिसी नृत्य इसी परम्परा से जुड़े पक्ष हैं.दिवंगत कलाविदों में केलू बाबू ,गुरु गंगाधर प्रधान से लेकर वर्तमान के महान कलागुरुओं में सोनल मान सिंह और आज के ख़ास चेहरों में याद करें तो रंजना गौहर,कविता द्विबेदी प्रमुख नाम हैं.ये नर्तक छात्र कोणार्क नृत्य मंडप के शिष्य हैं जो वहाँ अपनी प्रारंभिक शिक्षा के साथ ही ये कार्य भी सिख रहे हैं.-माणिक








कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here