'अपनी माटी' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल:सलाहकार जयप्रकाश मानस - अपनी माटी ई-पत्रिका

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

'अपनी माटी' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल:सलाहकार जयप्रकाश मानस

जयप्रकाश मानस

जन्म : 2 अक्टुबर 1965, रायगढ़, छत्तीसगढ़।
मातृभाषा : ओड़ीया।
शिक्षा : एम. ए. (भाषा विज्ञान), एम. एस. सी. (आई. टी.)।
प्रकाशन : 200 से अधिक पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित।
कविता संग्रह : तभी तो होती है सुबह, होना ही चाहिए आंगन, अबोले के विरूद्ध।
ललित निबंध : दोपहर में गाँव (पुरस्कृत)।
आलोचना : कवि की उपस्थिति।
बाल गीत : चलो चलें अब झील पर, सब बोले दिन निकला, एक बनेंगे नेक बनेंगे, मिल कर दीप जलाएँ।
नवसाक्षरोपयोगी : यह बहुत पुरानी बात है, छत्तीसगढ़ के सखा।
लोक साहित्य : लोक वीथी, छत्तीसढ़ की लोक कथाएँ (10 भाग), हमारे लोक गीत।
भाषा एवं मूल्यांकन : छत्तीसगढ़ी : दो करोड़ की भाषा, बगर गया बसंत (बाल कवि श्री बसंत पर एकाग्र)।
संपादन : विहंग (हिन्दी कविता में पक्षी), महत्व: डॉ बलदेव, महत्व: स्वराज प्रसाद त्रिवेदी, एक नई पूरी सुबह, इंटरनेट अपराध और कानून।
पत्रिका संपादन : बाल पत्रिका, बाल बोध (मासिक) के 12 अंकों का संपादन, कार्यकारी संपादक- पांडुलिपि (त्रैमासिक)।
अंतरजाल पत्रिका : साहित्यिक वेब पोर्टल सृजनगाथा (srijangatha.com) का पिछले 5 वर्षों से प्रकाशन व संपादन।
सम्मान : कादम्बिनी पुरस्कार, टाइम्स ऑफ इंडिया, बिसाहु दास महन्त पुरस्कार, अस्मिता पुरस्कार, अंबेडकर फैलोशिप (दिल्ली), अंबिका प्रसाद दिव्य रजत अलंकरण, माता सुंदरी फाउंडेशन पुरस्कार, विद्यावाचस्पति (मानद) आदि।
साहित्यिक यात्रा : श्रीलंका, ब्रिटेन, ओमान, संयुक्त अरब अमिरात, थाईलैंड, मॉरिशस।
विशेष : ललित निबंध संग्रह/साहित्य पर दो छात्राओं द्वारा शोध कार्य।
संप्रति : छत्तीसगढ़ शासन में अधिकारी।
संपर्क : जयप्रकाश मानस
एफ-3, छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल,
आवासीय परिसर पेंशनवाड़ा, विवेकानंद नगर,
रायपुर, छत्तीसगढ़-492001
(मोबाइल-94241-82664)

4 टिप्‍पणियां:

  1. मानस भाई की साहित्य-साधना को नमन है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रणाम सर् महादेवी सृजन पीठ एवं केंद्रीय हिंदी निदेशालय के संयुक्त कार्यक्रम में आज दिनांक 13 सितम्बर 2018 को आपका सानिध्य मिला।
    मेरे लिए गौरव का क्षण था जब आपने मेरी ग़ज़ल को अपनी सरस्वती वाणी प्रदान की।
    आप गुरु के रूप में मेरे हृदय में सदैव बने रहेंगे।
    आपके कमल रूपी चरणों की वंदना करता हूँ,बार-बार करता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपका सम्पर्क no 9424182664 यहां पर मिला है आपसे सम्पर्क करूँगा। मेरा फोन no 7579055002 है।
    प्रणाम गुरुदेव

    उत्तर देंहटाएं

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here