'अपनी माटी' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल:सलाहकार जयप्रकाश मानस - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

'अपनी माटी' वेबपत्रिका सम्पादन मंडल:सलाहकार जयप्रकाश मानस

जयप्रकाश मानस

जन्म : 2 अक्टुबर 1965, रायगढ़, छत्तीसगढ़।
मातृभाषा : ओड़ीया।
शिक्षा : एम. ए. (भाषा विज्ञान), एम. एस. सी. (आई. टी.)।
प्रकाशन : 200 से अधिक पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित।
कविता संग्रह : तभी तो होती है सुबह, होना ही चाहिए आंगन, अबोले के विरूद्ध।
ललित निबंध : दोपहर में गाँव (पुरस्कृत)।
आलोचना : कवि की उपस्थिति।
बाल गीत : चलो चलें अब झील पर, सब बोले दिन निकला, एक बनेंगे नेक बनेंगे, मिल कर दीप जलाएँ।
नवसाक्षरोपयोगी : यह बहुत पुरानी बात है, छत्तीसगढ़ के सखा।
लोक साहित्य : लोक वीथी, छत्तीसढ़ की लोक कथाएँ (10 भाग), हमारे लोक गीत।
भाषा एवं मूल्यांकन : छत्तीसगढ़ी : दो करोड़ की भाषा, बगर गया बसंत (बाल कवि श्री बसंत पर एकाग्र)।
संपादन : विहंग (हिन्दी कविता में पक्षी), महत्व: डॉ बलदेव, महत्व: स्वराज प्रसाद त्रिवेदी, एक नई पूरी सुबह, इंटरनेट अपराध और कानून।
पत्रिका संपादन : बाल पत्रिका, बाल बोध (मासिक) के 12 अंकों का संपादन, कार्यकारी संपादक- पांडुलिपि (त्रैमासिक)।
अंतरजाल पत्रिका : साहित्यिक वेब पोर्टल सृजनगाथा (srijangatha.com) का पिछले 5 वर्षों से प्रकाशन व संपादन।
सम्मान : कादम्बिनी पुरस्कार, टाइम्स ऑफ इंडिया, बिसाहु दास महन्त पुरस्कार, अस्मिता पुरस्कार, अंबेडकर फैलोशिप (दिल्ली), अंबिका प्रसाद दिव्य रजत अलंकरण, माता सुंदरी फाउंडेशन पुरस्कार, विद्यावाचस्पति (मानद) आदि।
साहित्यिक यात्रा : श्रीलंका, ब्रिटेन, ओमान, संयुक्त अरब अमिरात, थाईलैंड, मॉरिशस।
विशेष : ललित निबंध संग्रह/साहित्य पर दो छात्राओं द्वारा शोध कार्य।
संप्रति : छत्तीसगढ़ शासन में अधिकारी।
संपर्क : जयप्रकाश मानस
एफ-3, छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल,
आवासीय परिसर पेंशनवाड़ा, विवेकानंद नगर,
रायपुर, छत्तीसगढ़-492001
(मोबाइल-94241-82664)

1 टिप्पणी:

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here