जया द्विवेदी की दो कवितायेँ - अपनी माटी

नवीनतम रचना

शुक्रवार, जून 10, 2011

जया द्विवेदी की दो कवितायेँ


एक स्त्री की वसीयत
जीते जी बोटी-बोटी नोच डाला
इंसानों ने
क्या बिगाड़ा है परिंदो ने
कर देना उनके हवाले लाश मेरी!
  
बँटवारा
माना कि
ज़िंदगी होती है कड़ी धूप सी
पर मेरे हिस्से में तो
एक पेड़ भी न आया



जया द्विवेदी 
अंबिकापुर, छत्तीसगढ़
मो.-900998110

2 टिप्‍पणियां:

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here