रक्तदान पर दिलीप भाटिया के अनुभव - अपनी माटी Apni Maati

Indian's Leading Hindi E-Magazine भारत की प्रसिद्द साहित्यिक ई-पत्रिका ('ISSN 2322-0724 Apni Maati')

नवीनतम रचना

रक्तदान पर दिलीप भाटिया के अनुभव

आपकी जन्म तिथि क्या है ? घबराइए मत, मैं आपके घर मिठाई केक खाने नहीं आ रहा हूँ। मेरा मात्र इतना ही अनुरोध है कि इस दिन समय निकालकर समीप के ब्लड बैंक में जाकर रक्तदान कर किसी एक प्राणी का जीवन बचाकर एक अच्छा नेक काम कीजिए। प्रार्थना स्वीकार करेंगे ना ? आभारी एवं कृतज्ञ रहूँगा। रक्त (खून) का विकल्प नहीं है। रक्त उत्पादित नहीं किया जा सकता। ऑपरेशन, दुर्घटना, एनीमिया, कैंसर, थैलासीमिया गम्भीर बीमारी में खून की आवश्यकता होती है। जीवनदान, रोगमुक्त होने एवं जीवन अवधि बढ़ाने के लिए खून की आवश्यकता होती है। देश की सेवा, मानव जाति की सेवा हेतु रक्तदान अनमोल है, उपहार है, निस्वार्थ है, सकारात्मक योगदान है, अनजान व्यक्ति को समय पर मदद है।

18 वर्ष से 65 वर्ष आयु का स्वस्थ व्यक्ति तीन माह में समीप के ब्लड-बैंक में स्वैच्छिक रक्तदान कर सकता है। इस प्रकार (65-18) ग 4 त्र 47 ग 4 त्र 188 बार रक्तदान करना संभव है। रक्तदान मात्र 10 मिनिट में हो जाता है। हमारे शरीर में सामान्यतया 7 लीटर खून होता है। मात्र 350 मिलीलीटर खून यानी बीसवां भाग ही रक्तदान में निकलता है, जो पुनः 24 घंटों में ही नार्मल हो जाता है। कई बीमारियों से बचाव होता है।मैंने स्वयं 51 बार रक्तदान किया है। 65 वर्ष की आयु सीमा तक मुझे अभी 10 बार रक्तदान करने के सुअवसर बाकी हैं, कोई कमजोरी नहीं आती है। अनेकों बार रक्तदान के पश्चात मैंने ड्यूटी भी की है। रक्तदान के क्षण सर्वोत्तम क्षण हैं, आत्मिक संतोष मिलता है। कुछ अच्छा करने से मन को सुकून मिलता है।

मेरी ममतामयी मां 15 फरवरी 2010 को महायात्रा पर चली गईं। मान्यता है कि एक वर्ष में किए गए सभी दानों का पुण्य मृतात्मा को मिलता है। अम्मा की मुक्ति के नवें दिन 23 फरवरी 2010 को मैंने जीवन का 51वां रक्तदान कर मां को श्रद्धांजली दी। 14 फरवरी 2011 से पूर्व तीन बार और रक्तदान कर उन पुण्यात्मा को अर्पण करूंगा रक्तदान का फल।रक्तदान महादान है। सुहागन विधवा न बनेगी, बूढ़े मां-बाप का सहारा बचेगा, किसी बहन की मांग का सिन्दूर बना रहेगा, किसी भाभी की चूड़ियां बनी रहेंगी, किसी बेटी की बिंदिया बनी रहेगी, एक ऐसा नेक कार्य जो अतुलनीय है।

आइए रक्तदान के यज्ञ में हम सब अपनी आहुति देते रहें । जीवनदान दीजिए, कुछ नही खोऐगंे, अनजान व्यक्ति के आशीर्वाद दुआ पाऐंगे। मैं इस वर्ष तीन बार और रक्तदान करूंगा। क्या आप एक बार भी करेगें ? करें, तो मुझे अपना अनुभव लिखिएगा। हैप्पी ब्लड डोनेशन
   


दिलीप भाटिया
7 घ 12, जवाहर नगर
जयपुर- 302004 (राजस्थान)
मोबाइल- 09461591498


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here