कृष्ण प्रताप कथा सम्मान बन्दना राग को - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

कृष्ण प्रताप कथा सम्मान बन्दना राग को

समकालीन हिन्दी  कहानी के चर्चित कथाकार कृष्ण प्रतापकी स्मृति में वर्ष 2010 का  कृष्ण प्रताप कथा सम्मान  युवा एवं चर्चित कहानी कार बन्दना राग को पहला कृष्ण प्रताप  कथा सम्मान उनके वर्ष 2010 में प्रकाशित  प्रथम कहानी संग्रह युटोपिया को प्रदान किया जाता है । यह निर्णय श्री विभूति नारायण राय,ममता कालिया एवं श्री दिनेश कुमार शुक्ल निर्णायक समिति के सदस्यों के व्दारा लिया गया । यह कथा सम्मान आगामी  अक्टूबर माह में  प्रदान किया जायेगा जिसमें कथाकारको 11000/- ग्यारह हजार की धनराशि ,प्रशस्ति पत्र ,पदक एवं शाल आदि भेंट किये जायेंगे । निर्णय की प्रशस्ति में कहा गया है कि युटोपिया की कहानियों  में कहानी के स्थापित ढ़ाचों  को तोड़ कर  कहानी कार  ने अपनी  कहानियों के लिए रचना की नईजमीन तैयार की है ।बन्दना की कहानियों की संवेदना दृष्टि अति सूक्ष्म होने के साथ -साथ दृष्टि प्रदान करती है । जो भीतर तक जाकर टोहती है। इन कहांनियों में बन्दनाराग कुशल किस्सागो नजर आती हैं।

योगदानकर्ता/रचनाकार का परिचय :-नरेन्द्रपुण्डरीक,  संयोजक,  कृष्ण प्रताप कथा सम्मान ,डी0 एम0 कालोनी,सिविल लाइन                               बांदा - 210001 उ0 प्र0  ,मो0 9450169568
=प्रेषक:अरविन्द श्रीवास्तव,सम्पादक मंडल 'अपनी माटी'मधेपुरा (बिहार)
SocialTwist Tell-a-Friend

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here