आयोजन आमंत्रण:-गालिब की दिल्ली या 'डेल्ही बेली' की दिल्ली - Apni Maati Quarterly E-Magazine

नवीनतम रचना

आयोजन आमंत्रण:-गालिब की दिल्ली या 'डेल्ही बेली' की दिल्ली


वो कौनसा धागा है, जो उम्मीद भरी सत्ता की तलाश में सुदूर देहात से राजधानी की ओर निकले 'अब दिल्ली दूर नहीं' के छोटे से रतन को चांदनी चौक की गलियों में 'भाग डी के बोस' की लय पर भागते 'डेल्ही बेली' के ताशी और दोस्तों से जोड़ता है? क्या नये बनते संभावनाओं के शहर में जुड़वां दिखते मकानों की नींव पर नेहरूवियन आधुनिकता का, अपने प्यार का महल खड़ा करते 'तेरे घर के सामने' के देवानंद और नूतन से कोई तार निकल कर नागरिक समाज से बहिष्कृत 'ओये लक्की लक्की ओये' के लक्की तक आता है? ध्वस्त सभ्यताओं के बोझ तले पनपती जिंदगियां। एक शहर जो अपने इतिहास में जीता है। एक शहर जिसके इतिहास से नाते तमाम अब नष्ट हैं। आईने में टकराती सच्चाइयां। गालिब की दिल्ली। अठ्ठारह सौ सत्तावन की दिल्ली। शरणार्थियों की दिल्ली। आपातकाल की दिल्ली। विस्थापितों की दिल्ली। 'रवीश की रिपोर्ट' की दिल्ली। 'डेल्ही बेली' की दिल्ली।

Speakers

  1. Akshat Verma | Writer : Delhi Belly
  2. Mahmood Farooqui | Historian & co director : Peepli Live
  3. Ravikant | Historian & CSDS Fellow
  4. Ravish Kumar | Excutive Editor : NDTV INDIA

in conversation with
Mihir Pandya | Research Fellow, DU

Organiser : Mohalla Live
any querry, plz call on 9811908884

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here