मालवी गीत:'झम झम झम झम होई रे' - अपनी माटी

नवीनतम रचना

शनिवार, अगस्त 06, 2011

मालवी गीत:'झम झम झम झम होई रे'



सावन में आज तो झम झम होई रे
बेन बेटी ना को आयो दिवसों ,
अमली निचे फुन्दी फटाका होई रे
झम झम झम झम होई रे
सावन में आज तो झम झम होई रे
मोटो नानो ली आयो आणों
खेत पे जावा को मन नि होई रे
झम झम झम झम होई रे
सावन में आज तो झम झम होई रे
नवी लाड़ी को पेलो सावन ,
मन में मीठी मीठी कसक होई रे
झम झम झम झम होई रे
सावन में आज तो झम झम होई रे
बुवाई करी के हुई गया फिरि
तास पत्ती ने चोपड़ होई रे
झम झम झम झम होई रे
सावन में आज तो झम झम होई रे
नदी नाला सब पुर आई गया रे
खेत माळ सब राम्पाई रिया रे
झम झम झम झम होई रे
सावन में आज तो झम झम होई रे
तलाव की पाळ पे फासी गया पटेल बा
लाल्या ली के लोग   दोंडिया जाइ रे
झम झम झम झम होई रे
सावन में आज तो झम झम होई रे
दाजी बा ने बेच दीया खेत रे
कार में ठसक से जय रिया रे
झम झम झम झम होई रे


सावन में आज तो झम झम होई रे

 योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-

 राजेश भंडारी 'बाबू' 104,
 महावीर नगर ,इंदौर 
 फ़ोन-9009502734
 iistrajesh@gmail.com
SocialTwist Tell-a-Friend

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here