Latest Article :
Home » , , , , , , » 'लोकतंत्र, इंसाफ और सामाजिक समानता के मूल्यों के लिए भीषण संकट'-मंगलेश डबराल

'लोकतंत्र, इंसाफ और सामाजिक समानता के मूल्यों के लिए भीषण संकट'-मंगलेश डबराल

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on मंगलवार, अगस्त 09, 2011 | मंगलवार, अगस्त 09, 2011



क्रन्तिकारी छात्र संगठन आइसा और इंकलाबी नौजवान सभा के बैनर तले देश भर से हजारों छात्र-नौजवान 9 अगस्त  को दिल्ली पहुँच रहे हैं. हाल के महीनों में जितने बड़े-बड़े घोटाले सामने आये हैं, और जिस तरह तमाम गठबन्धनों की सरकारें भ्रष्टाचार और लूट की ताकतों की बर्बर संरक्षक की भूमिका निभा रही हैं, उसने लोकतंत्र, इंसाफ और सामाजिक समानता के मूल्यों के लिए भीषण संकट तो उत्पन्न किया है, उसने देश की संप्रभुता और आत्मनिर्भरता के लिए भी खतरे पैदा किये हैं और करोड़ों जनता के वर्तमान और भविष्य की बर्बादी की  स्थितियां निर्मित कर दी है. आज केंद्र सरकार के मंत्री एक-एक करके भ्रष्टाचार के संरक्षक के रूप में सामने आ रहे हैं. दूसरी ओर जहाँ गैर यूपीए सरकारें हैं, वहां भी सरकारें और मंत्री घोटालों में संलिप्त पाए गये हैं. 

प्रतिवाद करने वालों को अपनी जान तक गंवानी पड़ी है.ऐसे हालात में आइसा और इंकलाबी नौजवान सभा ने पिछले कुछ महीनों से पूरे देश में भ्रष्टाचार, काला धन, राज्य दमन, महंगाई और सर्वोपरि इन स्थितियों के लिए जिम्मेवार आर्थिक नीतियों के खिलाफ अभियान चलाया है. छात्र नौजवान इस दौरान स्कूल, कालेज, विश्वविद्यालयों के साथ शहर के मुहल्लों और हजारों गाँवों में भी गये, और भ्रष्टाचार को लेकर चिंतित जनता को इसके खिलाफ मुक्कमल लड़ाई के लिए संगठित करने की कोशिश की है. 


 इस दौरान कविता पाठ, जनगीतों की प्रस्तुति तथा फिल्मों का प्रदर्शन भी होगा. आइए, हम इस लड़ाई में अपनी आवाज मिलाएं. अपनी रचनाओं और विचारों से आन्दोलनकारी साथियों का मनोबल बढ़ाएं. 09 से 13 अगस्त तक 100 घंटे तक चलने वाली इस मोर्चाबंदी के दौरान जब भी आपको समय मिले, आप आइए, और इस अभियान को और ताकतवर बनाइए. 
 संपर्क- 
  • 09910402459 (मंगलेश डबराल),
  • 9953056075 (आशुतोष कुमार), 
  • 9868990959 (सुधीर सुमन), 
  • 9818755922 (भाषा सिंह)
निवेदक:                                                                                                                                               
मंगलेश डबराल
(पहाड़ पर लालटेन (1981); घर का रास्ता(1988); हम जो देखते हैं (1995) जिनकी प्रमुख कृतियाँ है.वे वर्तमान में जन संकृति मंच दिल्ली के अध्यक्ष हैं.उनके काम को अब तक ओमप्रकाश स्मृति सम्मान (1982); श्रीकान्त वर्मा पुरस्कार (1989) और " हम जो देखते हैं" के लिये साहित्य अकादमी पुरस्कार (2000) सम्मानों से नवाज़ा जा चुका है)

Share this article :

'अपनी माटी' का 'किसान विशेषांक'


संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

सह सम्पादक:सौरभ कुमार

सह सम्पादक:सौरभ कुमार
अपनी माटी ई-पत्रिका

यहाँ आपका स्वागत है



यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template