देर सबेर आया अंक 'सबलोग' का - अपनी माटी (PEER REVIEWED JOURNAL )

नवीनतम रचना

शनिवार, अगस्त 13, 2011

देर सबेर आया अंक 'सबलोग' का


कई तरह के असहयोग और कंप्यूटर ओपरेटर की लापरवाही के कारण सबलोग के अगस्त अंक के प्रकाशन में अप्रत्याशित देरी हुई.लेखकीसहयोग के लिए सबों का आभार और देरी के लिए क्षमा.पत्रिका की हार्ड कॉपी15 अगस्त के बाद ही भेजी जा सकेगी.ये अंक यहाँ क्लिक कर देखा और डाउनलोड किया जा सकता है.अभिवादन--











योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-
किशन कालजयी
'संवेद' और 'सबलोग' के सम्पादक
F-3/78-79,Sector-16, Rohini,
Delhi-110089
R:- 011 27891526
Mob:- +91-9868184228

ये अंक बनास के सम्पादक पल्लव के सहयोग से हमें प्राप्त हुआ 
SocialTwist Tell-a-Friend

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here