Latest Article :
Home » , , , , , , » चित्तौड़गढ़ में ‘‘अन्ना हजारे जिन्दाबाद’’,'‘जन लोकपाल बिल लाके रहेंगें'’

चित्तौड़गढ़ में ‘‘अन्ना हजारे जिन्दाबाद’’,'‘जन लोकपाल बिल लाके रहेंगें'’

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on बुधवार, अगस्त 24, 2011 | बुधवार, अगस्त 24, 2011

चित्तौड़गढ़। 24,अगस्त,2011
भ्रष्टाचार उन्मूलन और जन लोकपाल बिल लाने के राष्ट्रव्यापी आन्दोलन के सातवें दिन नगर की ब्रोकर एशोसिएशन, जुड़वा क्लब और राजकीय कन्या महाविद्यालय की छात्राओं तथा अन्य नागरिक संगठनों ने चित्तौड़गढ़ नगर के गांधीचौक से एक विशाल जुलुस के रूप में ‘‘अन्ना हजारे जिन्दाबाद, ’’ ‘ जन लोकपाल बिल लाके रहेंगें और इन्कलाब जिन्दाबाद के नारे लगाते हुए श्री सुनील ढ़ीलीवाल, नरेश बसेर तथा कन्या महाविद्यालय की अध्यक्षा पूजा सेन, उपाध्यक्ष शोभा राजपुरोहित के नेतृत्व में कलेक्ट्रेट चौराहे पर स्थित अनशन स्थल पर पहुँचें, जहाँ सिविल सोसायटी के श्री भंवर लाल शिशोदिया, सत्यनारायण समदानी, डॉ. .एल.जैन, नवरतन पटवारी, गंगाधर सोलंकी और जयप्रकाश दशोरा आदि ने उनका माल्यार्पण से स्वागत किया।
               
अनशनधारियों ने जुलुस को पहले गांधी प्रतिमा के स्थल पर विश्राम देकर गांधीजी की मूर्ति को पुष्पमालाएँ अर्पित की और मानव श्रृंखला बनाकर विरोध प्रकट किया मानव श्रृंखला में लगभग 300 व्यक्तियों ने हिस्सेदारी की।  सिक्ख समाज के अध्यक्ष श्री महेन्द्रपाल सिंह एवं अन्य सदस्यों ने अनशनधारियों पर गुलाब के फूलों की वर्षा की। इससे पूर्व जुलुस के मार्ग में गोलप्याऊ चौराहा, सुभाष चौक तथा नदी के तट पर नागरिकों ने अनशनधारियों पर फूल बरसायें।
आन्दोलन में महिलाओं एवं बालक-बालिकाओं की भागीदारी उल्लेखनीयच रही। छात्राओं में पूजा सेन, शोभा राजपुरोहित, वर्षा सोनी, वन्दना राजोरा, पुष्पा सोनी (प्रथम), रूपम सारस्वत, प्रियंका नाहर, कीर्ति टेलर, पूजा पटवा, ज्योति सोनी, पूजा सोनी, ट्ंिकल, 10 वर्षीय अंजनी सोनी, ज्योति पटवा प्रेमलता आदि उल्लेखनीय है। तरूण एवं बालक वर्ग में अर्पित जैन, अशोक कलन्त्री, दीपक सुथार विरल छाजेड़ आदि उपस्थित थे।

इन संगठनों ने 101 से अधिक सदस्यों और सिविल सोसायटी के सदस्यों अरनिया पंथ से आये वाहन रेली के आन्दोलनधारियों ने स्थानीय सांसद डॉ.गिरजा व्यास के घर के बार बैठें अनशनधारियों को मालाएँ पहना का उनका उत्साहवर्धन किया। स्मरण रहे कि सांसद के घर के बाहर भानुप्रतापसिंह 21 अगस्त से और महिपाल सिंह 22 अगस्त से आमरण अनशन पर बैठें है। अनशन स्थल पर लगभग 30 व्यक्तियों ने सम्बोधित किय। भगवत सिंह तँवर ने सुझाव दिया कि नगरपालिका को चाहिये कि महात्मा गांघी की प्रतिमा पर छतरी बनाई जाय ताकि राष्ट्रपिता की मूर्ति को गरिमामय रूप दिया जा सके। मूर्ति के आगे छाया की व्यवस्था ऐसी की जाय जिससे नागरिक वहां कुछ समय बैठकर प्रार्थना कर सकें।
               
 नगर में चलाये जा रहे आन्दोलन को समर्थन देने के लिए एडवोकेट श्री जगदीश चन्द्र पंचोली , चान्दमल गर्ग, व्यवसायी श्री शरद सोनी, इंजीनियर के.एम.जैन, श्री अजयपाल सिंह, मनोज मक्खन, रजनीश पितलिया, शोभा लाल दशोरा, डॉ. रमेश दशोरा, विमल सरूपरिया, वरिष्ठ नागरिक मंच के आर.सी.डाड, बद्रीलाल भट्ट, अर्जुन लाल पलोड़, सतपाल सिंह, शम्भू लाल आमेटा आदि अनेकों नागरिकों ने अनशन स्थल पर अनशनधारियों को धन्यवाद ज्ञापित किया। सिविल सोसायटी के सदस्यों ने सांसद डॉ. गिरजा व्यास के आवास के बाहर बैठे अनशनधारियों का माल्यार्पण का सम्मान दिया।

 शहर एवं आस पास के सतखण्डा, सतपुड़ा, ओछड़ी, अरनियापंथ आदि कई गांवों से सभी जाति, धर्म के लोगों ने आकर आंदोलन को समर्थन दिया। आज कन्हैयालाल खंडेलवाल, प्रदीप ऋषि, जगदीश सेन, मुकेश सेन, भगवानलाल सेन, अनशन पर बैठे। धरना स्थल पर प्रकाश गुर्जर, कन्हैयालाल खंडेलवाल, भंवर मेनारिया ओछड़ी, मार्बल व्यवसायियों गोपाल स्वरूप ओझा, हरीश ईनाणी, जुगल बिड़ला, राजेश मानधना, प्रहलाद पूंगलिया, मेघराज बिड़ला, जगदीश राठी ने सम्बोधित किया। मार्बल लघु उद्योग संस्थान के पदाधिकारियों एवं सदस्यों ने गांधी चौक से कलेक्ट्री तक पैदल मार्च कर जनलोकपाल बिल विधेयक का समर्थन किया हिन्दुस्तान जिंक के जीएनएस चौहान एवं योगेश शर्मा ने अपने प्रभावी उद्बोधनों में बताया कि किस तरह भ्रष्टाचार ने आजाद भारत के आम आदमी के सपनों को चूर-चूर कर दिया है। नेता, कर्मचारी और पुलिस की तिकड़ी ने आम आदमी का जीना दूभर कर दिया है। इस भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए जन लोकपाल बिल स्वीकार करने की जगह इस सरकार ने लोकतंत्र को कलंकित कर दिया है। 

समिति के गंगाधर सोलंकी एवं जे.पी.दशोरा के अनुसार आज धरना स्थल पर समस्त मार्बल व्यवसायी, इण्डस्ट्रीयल एरिया से गांधी चौक होते हुए रैली के साथ कलेक्ट्री पर सिविल सोसायटी के धरना स्थल पर पहुंचे एवं अपना पूर्ण सहयोग इस आंदोलन को प्रदान किया। स्वर्णकार सर्राफा एसोसिएशन ने वाहन रैल्ी निकाल कर जिला कलेक्ट्रेट एवं सांसद डॉ. गिरिजा व्यास के आवास पर ज्ञापन सौंपा। इसी प्रकार .बी.वी.पी. के छात्रों और सतखण्डा के युवाओं ने भी धरना स्थल पर नारेबाजी की।

करणीमाता का खेड़ा, चित्तौड़गढ़ के युवा संगठन, टेक्सी चालक युनियन, चित्तौड़गढ़, पंप सेट डीलर्स एसोसिएशन एवं इलेक्ट्रिक डीलर्स एसोसिएशन, अन्ना सेना सतपुड़ा, रेल्वे यूनियन आदि संगठनों के सैंकड़ों सदस्य पैदल मार्च एवं वाहन द्वारा जुलूस के रूप में कलेक्ट्री चौराहे पर सिविल सोसायटी के धरना स्थल पर पहुंचे। क्रमिक अनशन में हिन्दुस्तान जिंक के जीएनएस चौहान, योगेश शर्मा, बाल किशन माली, सीताराम रंगास्वामी, केशव शंकर लौहार, शिवलाल सालवी, राजकुमार पुंगलिया, शंकरलाल जाट, रणवीरसिंह चंदेल, बाबूलाल जाट, दिनेश जैसवाल, विनोद नायक, तुलसीराम मेघवाल, प्रदीप गौड़, मीठालाल वर्मा, जयन्तीलाल खटीक, चन्द्रशेखर पालिवाल, जगदीश बैरागी, बिरला सीमेन्ट से रणवीरसिंह चंदेल, भारत स्वाभिमान ट्रस्ट से श्रीमती सुनिता भट्ट, करणीमाता का खेड़ा के सेवाराम एवं ईश्वरलाल अनशन पर बैठे एवं मंच को ओजस्वी वाणी से उद्बोधन दिया। 

 सिविल सोसायटी के सामाजिक कार्यकर्ता गंगाधर सोलंकी, प्रो. एस.एन. समदानी ने बताया कि मंच को कन्हैयालाल खंडेलवाल, भारतीय किसान संघ के लेहरूलाल अहीर, गुरविंदरसिंह, गुरूमुखसिंह, अविनाश सिंह, राधेश्याम सोनी, कैलाश शर्मा, भारतीय मानवाधिकार संगठन दिल्ली के दिलीप बक्षी एवं रमेश मराठा, पूर्व प्राचार्य डी.सी. भाणावत, उद्योगपति नित्यानंद जिंदल, मोहनलाल नामधर, प्रकाश गुर्जर,आदि ने संबोधित किया। आन्दोलन की समुचित व्यवस्था शंभूलाल आमेटा ने की।

छायाचित्र:-
विकास अग्रवाल के सहयोग से 

योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-

डॉ. ए. एल. जैन

चित्तौड़ नगर के शिक्षाविद हैं.जो कोलेज शिक्षा से सेवानिवृत प्राचार्य हैं.वर्तमान में भगवान् महावीर मानव समिति चित्तौड़गढ़ के 
 अध्यक्ष,मीरा स्मृति संस्थान के सह सचिव,स्पिक मैके के वरिष्ठ सलाहकार होने के साथ ही वे इस आन्दोलन में संयोजन मंडल में हैं.
draljain@gmail.com,9414109779
SocialTwist Tell-a-Friend
Share this article :

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template