Latest Article :
Home » , , , , » ''संग्रह ‘रंग छवियां’ के नाटक वर्तमान समय की विद्रूपताओं और विदू्रपूताओं पर प्रहार करते हैं''-प्रो. भंवर सिंह सामौर

''संग्रह ‘रंग छवियां’ के नाटक वर्तमान समय की विद्रूपताओं और विदू्रपूताओं पर प्रहार करते हैं''-प्रो. भंवर सिंह सामौर

Written By 'अपनी माटी' मासिक ई-पत्रिका (www.ApniMaati.com) on बुधवार, अगस्त 17, 2011 | बुधवार, अगस्त 17, 2011

चूरू, 13 अगस्त,2011

राजस्थान साहित्य अकादमी उदयपुर एवं प्रयास संस्थान चूरू की ओर से शनिवार को जिला मुख्यालय स्थित सूचना केंद्र में नाटक संग्रह ‘रंग छवियां’ पर केंद्रित ‘पाठक मंच’ गोष्ठी का आयोजन किया गया। वरिष्ठ साहित्यकार बैजनाथ पंवार की अध्यक्षता में आयोजित गोष्ठी के मुख्य अतिथि साहित्यकार प्रो. भंवर सिंह सामौर ने कहा कि राजस्थान में ख्याल, तमाशा, तुर्रा-कलंगी सहित विभिन्न नाट्य-शैलियों की सशक्त परंपरा रही है और अकादमी ने नाटक संग्रह का प्रकाशन कर इस परंपरा को पुष्ट करने का सराहनीय प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि संग्रह के नाटक वर्तमान समय की विसंगतियों और विद्रूपताओं  पर प्रहार करते हैं। उन्होंने कहा कि नाटक संग्रह समाज में साहित्य की भूमिका को भी प्रतिष्ठापित करता है। 

गोष्ठी में पत्रवाचन करते हुए प्रोफेसर उम्मेद गोठवाल ने कहा कि हिंदी एकांकी एवं रंगमंच फिलहाल संक्रमण के दौर से गुजर रहे हैं, ऐसे में नाटक संग्रह ‘रंग छवियां’ एक विश्वास जगाता है। उन्होंने कहा कि ‘रंग छवियां’ में विभिन्न शैलियां आकर इस तरह मिल गई हैं कि पाठक एवं दर्शक पर एक समग्र प्रभाव छोड़ती हैं। उन्होंने कहा कि एक तरफ इस संग्रह में आत्म केंद्रित एवं सड़ी-गली मानसिकता से मुक्ति का प्रयास है तो दूसरी ओर ऐतिहासिक संस्कारों से वर्तमान को आलोकित करने का पावन कर्म है। 

पत्रवाचन करते हुए डॉ कृष्णा जाखड़ ने कहा कि मदन शर्मा द्वारा संपादित यह संग्रह वैश्वीकरण और भूमंडलीकरण के इस दौर में परेशानियों से घिरे व्यक्ति की संवेदनाओं का चित्रण करता है। उन्होंने कहा कि संग्रह का एक नाटक ‘टूटता भ्रम’ आधुनिकता की चकाचौंध में गुम होते, पाश्चात्य संस्कृति में भटकते और आत्मिक शांति के लिए पुनः भारतीय संस्कृति की ओर लौटते व्यक्ति की मनःस्थिति को बेहतरीन ढंग से अभिव्यक्त करता है।  प्रयास संस्थान के अध्यक्ष दुलाराम सहारण ने आभार व्यक्त करते हुए कहा कि राजस्थान साहित्य अकादमी धन्यवाद की पात्र है कि साहित्यिक गतिविधियों की निरंतरता प्रदेश में बनी हुुई है। इससे पूर्व प्रयास संस्थान के सचिव कमल शर्मा ने स्वागत किया। संचालन साहित्यकार कुमार अजय ने किया।  


योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-

दुलाराम सहारण
राज्य के चुरू जिले में प्रमुख रूप से सक्रीय सामाजिक संस्थान प्रयास के अध्यक्ष है और एक प्रखर संस्कृतिकर्मी के रूप में जाने जाते हैं.वे पेशे से वकील हैं.
,drsaharan09@gmail.कॉम
चुरू,राजस्थान
9414327734

SocialTwist Tell-a-Friend
Share this article :

संस्थापक:माणिक

संस्थापक:माणिक
अपनी माटी ई-पत्रिका

सम्पादक:जितेन्द्र यादव

सम्पादक:जितेन्द्र यादव
अपनी माटी ई-पत्रिका

एक ज़रूरी ब्लॉग

एक ज़रूरी ब्लॉग
बसेड़ा की डायरी:माणिक

यहाँ आपका स्वागत है



ज्यादा पढ़ी गई रचना

यहाँ क्लिक करके हमारी डाक नि:शुल्क पाएं

Donate Apni Maati

रचनाएं यहाँ खोजिएगा

हमारे पाठक साथी

सम्पादक मंडल

साहित्य-संस्कृति की त्रैमासिक ई-पत्रिका
'अपनी माटी'
========
प्रधान सम्पादक
सम्पादक
सह सम्पादक
तकनिकी प्रबंधक
========
संपर्क
apnimaati.com@gmail.com
========

ऑनलाइन

Donate Us

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template