''संग्रह ‘रंग छवियां’ के नाटक वर्तमान समय की विद्रूपताओं और विदू्रपूताओं पर प्रहार करते हैं''-प्रो. भंवर सिंह सामौर - अपनी माटी 'ISSN 2322-0724 Apni Maati'

चित्तौड़गढ़,राजस्थान से प्रकाशित ई-पत्रिका

नवीनतम रचना

''संग्रह ‘रंग छवियां’ के नाटक वर्तमान समय की विद्रूपताओं और विदू्रपूताओं पर प्रहार करते हैं''-प्रो. भंवर सिंह सामौर

चूरू, 13 अगस्त,2011

राजस्थान साहित्य अकादमी उदयपुर एवं प्रयास संस्थान चूरू की ओर से शनिवार को जिला मुख्यालय स्थित सूचना केंद्र में नाटक संग्रह ‘रंग छवियां’ पर केंद्रित ‘पाठक मंच’ गोष्ठी का आयोजन किया गया। वरिष्ठ साहित्यकार बैजनाथ पंवार की अध्यक्षता में आयोजित गोष्ठी के मुख्य अतिथि साहित्यकार प्रो. भंवर सिंह सामौर ने कहा कि राजस्थान में ख्याल, तमाशा, तुर्रा-कलंगी सहित विभिन्न नाट्य-शैलियों की सशक्त परंपरा रही है और अकादमी ने नाटक संग्रह का प्रकाशन कर इस परंपरा को पुष्ट करने का सराहनीय प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि संग्रह के नाटक वर्तमान समय की विसंगतियों और विद्रूपताओं  पर प्रहार करते हैं। उन्होंने कहा कि नाटक संग्रह समाज में साहित्य की भूमिका को भी प्रतिष्ठापित करता है। 

गोष्ठी में पत्रवाचन करते हुए प्रोफेसर उम्मेद गोठवाल ने कहा कि हिंदी एकांकी एवं रंगमंच फिलहाल संक्रमण के दौर से गुजर रहे हैं, ऐसे में नाटक संग्रह ‘रंग छवियां’ एक विश्वास जगाता है। उन्होंने कहा कि ‘रंग छवियां’ में विभिन्न शैलियां आकर इस तरह मिल गई हैं कि पाठक एवं दर्शक पर एक समग्र प्रभाव छोड़ती हैं। उन्होंने कहा कि एक तरफ इस संग्रह में आत्म केंद्रित एवं सड़ी-गली मानसिकता से मुक्ति का प्रयास है तो दूसरी ओर ऐतिहासिक संस्कारों से वर्तमान को आलोकित करने का पावन कर्म है। 

पत्रवाचन करते हुए डॉ कृष्णा जाखड़ ने कहा कि मदन शर्मा द्वारा संपादित यह संग्रह वैश्वीकरण और भूमंडलीकरण के इस दौर में परेशानियों से घिरे व्यक्ति की संवेदनाओं का चित्रण करता है। उन्होंने कहा कि संग्रह का एक नाटक ‘टूटता भ्रम’ आधुनिकता की चकाचौंध में गुम होते, पाश्चात्य संस्कृति में भटकते और आत्मिक शांति के लिए पुनः भारतीय संस्कृति की ओर लौटते व्यक्ति की मनःस्थिति को बेहतरीन ढंग से अभिव्यक्त करता है।  प्रयास संस्थान के अध्यक्ष दुलाराम सहारण ने आभार व्यक्त करते हुए कहा कि राजस्थान साहित्य अकादमी धन्यवाद की पात्र है कि साहित्यिक गतिविधियों की निरंतरता प्रदेश में बनी हुुई है। इससे पूर्व प्रयास संस्थान के सचिव कमल शर्मा ने स्वागत किया। संचालन साहित्यकार कुमार अजय ने किया।  


योगदानकर्ता / रचनाकार का परिचय :-

दुलाराम सहारण
राज्य के चुरू जिले में प्रमुख रूप से सक्रीय सामाजिक संस्थान प्रयास के अध्यक्ष है और एक प्रखर संस्कृतिकर्मी के रूप में जाने जाते हैं.वे पेशे से वकील हैं.
,drsaharan09@gmail.कॉम
चुरू,राजस्थान
9414327734

SocialTwist Tell-a-Friend

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Responsive Ads Here